Friday, 28 May 2021

Nimrud The Mighty king: Challenged Allah to Fight: Was killed by a Tiny Mosquito

Allah (SWT) caused Nimrod’s death with his weakest creation to prove that only the Creator of the Universe is worthy of worship.

 

Nimrod, the one who built the huge Tower at Babylon: “Allah struck at the foundation of their building, and then the roof fell down upon them…”

 

Nimrud built his extensive empire from south to north, indicating a third-millennium BC setting (3000–2000 BC). Therefore, he must have ruled in this region during this period.

 

Like Prophet Muhammad (peace be upon him), Ibrahim (peace be upon him) was born at a time when ignorance was at its peak, at Babylon in Iraq during the reign of a tyrant disbeliever Nimrud. He had proclaimed himself to be the Almighty and wanted to prove that there was no God except him.

 

Nimrud was filled with misguidance. He used to term himself as lord of everything. Allah tells us in the Qur’an, how Prophet Ibrahim (peace be upon him) debated with this ignorant ruler to explain that Allah is the Lord of everything that exists.

 

His despotism knew no bounds. He summoned Hazrat Ibrahim (Alaihis Salaam) and said to him, “Tell your Allah that I neither fear Him nor need Him! Go tell Him that the whole world is in awe of me. All people are obedient to my command.

 

If He is the God of heaven, I am God of the earth. Where are His armies? If the sky fell on my troops, they could hold it up with their lances. Tell Him I challenge Him to a battle. He has no say on earth. The whole earth belongs to me; it is my kingdom!”

 

The answer was revealed to Hazrat Ibrahim (Alaihis Salaam): “Let him come to such and such a place, where I shall do battle with him!” The venerable Ibrahim Khaleelullah (Alaihis Salaam) passed the news to Nimrud.

 

On the day appointed, the brigades and regiments assembled on the battlefield, forming themselves in ranks. The Glorified and Exalted Rabb gave His army of mosquitoes their orders, and then sent these humble creatures into action against the proud and stubborn unbeliever who claimed to be deity.

Nimrud
The skies turned black as Nimrud’s horde stood ready for battle. When the order was given, the host of mosquitoes hurled themselves in their hundreds of millions against the army of the enemy of Allah. They filled the soldiers’ mouths, eyes and ears, biting with a vengeance.


 

When the cavalry horses met the mosquitoes’ onslaught, they started to bolt in all directions, unseating their riders as they fled. In the space of half an hour, destruction had overtaken Nimrud’s army, more than a hundred thousand strong.

 

Namrood himself left the battlefield, taking refuge in one of his castles. He thought he had saved his life by stopping up all doors and windows.

 

In spite of the great miracle he had witnessed, he could not bring himself to repent and accept the Oneness of Allah Ta’ala. How could he do so, without overcoming his arrogance and pride? The scoundrel was willfully obstinate in his disbelief.

 

One lame mosquito, with a damaged wing, had been unable to obey the Divine Command to attack this stubborn infidel. It now addresses itself to Allah Ta’ala, saying, “Oh Allah, what a sinful and luckless creature I must be, that you should deprive me of my share in this battle.

 

If only my leg and my wing had been sound, I would have done my bit in fighting this enemy of yours!” Almighty Allah, Lord of the worlds, then gave it the command, “Go now! You destroy that accursed one!”

 

The lame mosquito made its way, limping to the castle where Nimrud was hiding. Getting in through a keyhole, it went and settled on Nimrud’s knee. There it rested, recovering from its exhaustion.

 

Nimrud spotted the insect and tried to kill it, but the mosquito settled on his other knee.

 

As it rested there, it seemed to say, “You once told the venerable Ibrahim (Alaihis Salaam) that you had the power of life and death. You sought to prove it by killing one man and letting another go free. Come, what is stopping you from killing me now?” Nimrud could not kill the insect, no matter how hard he tried.

The Tiny Mosquito
Allah Ta’ala was demonstrating his weakness to him, as if to say, “Unless I will it, you cannot kill! When you killed men by my will, you imagined that you had granted them death. Look, you are a nonentity. You used the kingdom I gave you as a pretext for disobeying me.


 
You are nothing! What has become of the arrogance of yours? Where are your armies? Where is your divinity? Look, you have been conquered by that humble creature of mine, the mosquito. You have been disgraced!”

 

For all his efforts Nimrud still could not kill the mosquito, which now went up inside his nose. Once upon a time, Nimrud had wanted to burn Hazrat Ibrahim (Alaihis Salaam) in the fire, but in that he had also failed. The fire would not burn. Fire is only the secondary cause, the Real Cause being Almighty Allah.

 

The mosquito started eating the membrane of Nimrud’s brain. The tyrant beat his head from rock to rock. Now he had really begun to feel the pain of his defeat. He had felt no sympathy for the hundred thousand soldiers he had left on the battlefield, nor for their bereaved parents.

 

His only thought had been to save his filthy skin and rotten soul by running to hide in his castle; but hiding could not save him from the dreaded claws of death.

How many lives he had slaughtered how many houses he had destroyed, how many brains he had dashed out. Now he was dashing his own head against the rocks and walls; now he was suffering himself the pain he had inflicted on others.

 

Those people who oppress others should take heed of Nimrud’s condition and remember that Allah Ta’ala will give you enough time and respite, but the day His Wrath befalls you then there is no escape. Nimrud appointed salaried officials to hit him on the head with mallets.

The blows gave him a brief respite, since they interrupted the insect’s work. As soon as the mosquito began eating his brain once more, he would cry, “Help! Hit me!” He would get angry with those who did not hit him hard enough, while he increased the salaries of those who were hard hitters.

 

The so called ‘God of the earth’ was being beaten by his own servants. One day, one of these servants wielded the mallet too hard, and Namrood’s evil soul departed. They laid his filthy corpse in the pit of hell which was his grave.

 

We should learn from this incident that arrogance and pride will lead us to nothing but destruction in both the worlds. The more arrogant one is the more disgraced one would end up.

Tower of Babylon

This can be seen from the fact that Nimrud gave himself such a high status that he considered himself as God, yet he was disgracefully defeated by one of the weakest and most humble creatures of Allah Ta’ala.

 

This is the Quadrat of Allah Ta’ala. And the more we remind ourselves of the Power of Allah Ta’ala and His Bounties, the further away arrogance and pride will be from us because we will realize that everything that we have achieved and attained is due to the Blessings that Allah Ta’ala has bestowed upon us, not because of our own doings.

 

May Allah Ta’ala save us from pride and arrogance and may He in His Infinite Mercy grant us the Taufeeq to constantly remind ourselves that “I am Nothing, He is Everything,” Ameen.

 

The End




























Friday, 21 May 2021

Travelogue: The last Train No 653 Pamban-Danushkodi To last land of India: Dhanuskodl, The Ghost Town

All the big journeys start from Delhi. So I boarded on Tamil Nadu Exp from Delhi to Chennai. Chennai is about 2100 Km from Delhi. The nearest railway station for Dhanuskodi is Rameshwaram. Being a major town, Rameshwaram is well connected by trains from nearly every corner of Tamil Nadu and even far off places. I boarded Rameswaram Expr which travelled about 600 km to reach Rameshwaram.


Dhanuskodi beach is Located about 18 km southeast of Rameswaram town, Dhanushkodi is a long, windswept surf beach and sandpit which exudes an end-of-the-world feel. At the confluence of the Bay of Bengal and the Indian Ocean,
Dhanushkodi is the last land of India. Dhanushkodi, besides attracting tourists is also a forward outpost of the Indian Navy.

 

Sri Lanka is just 31 kilometers away from Dhanushkodi. Bordered by the Bay of Bengal on one and the Indian Ocean on the other, Dhanushkodi is one of the most spectacular stretches of Tamil Nadu.

 

Dhanushkodi was a busy township with European bungalows, church, temple and even a railway station, custom office, post office school, hospital and other govt offices building.

 

Haunting Story of Dhanushkodi by Tsunami on Night of 1964 December 22

While entering Dhanushkodi railway station, train No.653, Pamban-Dhanushkodi Passenger, a daily regular service which left Pamban with 110 passengers and 5 railway staff, was only few hundred yards before Dhanushkodi Railway station when it was hit by a massive tidal wave.

 

The entire train was washed away killing all 115 on board. A few meters ahead of Dhanushkodi, the signal failed. With pitch darkness around and no indication of the signal being restored, the driver blew a long whistle and decided to take the risk.

 

Minutes later, a huge tidal wave submerged all the six coaches in deep water. The tragedy that left no survivors also destroyed the Pamban bridge, which connected the mainland of India to Rameshwaram Island. The bridge has now been rebuilt.

 

Information has been received that a portion of the engine is visible six inches above water. With communication virtually cut off, the impact of the cyclone could reach Chennai only after several hours.

 

Before the 1964 storm, there was a train service up to Dhanushkodi called Boat Mail from Madras Egmore (Now Chennai Egmore) and the train linked to a steamer for ferrying travelers to Ceylon.

 

The storm was unique in many ways. It all started with a formation of a depression with its center at 5N 93E in South Andaman Sea on 17 December 1964. On 19 December it intensified into a cyclonic storm.

 

The Rameshwaram storm was not only formed at such low latitude but also intensified into a severe cyclonic storm at about the same latitude is indeed a rare occurrence.

 

After 21 December 1964, its movement was westwards, almost in a straight line, at the rate of 250 miles (400 km) to 350 miles (560 km) per day.

Pamban Bridge

 

Pamban Bridge was also washed away by the high tidal waves in this disaster. Eyewitness accounts recollected of how the surging waters stopped just short of the main temple at Rameshwaram where hundreds of people had taken refuge from the fury of the storm. Following this disaster, the Government of Madras declared the town as Ghost town and unfit for living after the storm. Only few fisherfolks now live there.

 

The route, which once linked India and Sri Lanka on the ‘Boat Mail,’ was never restored, though the remains of the cyclone still stand muted at Dhanushkodi, reminding one of the scale of the destruction wrought by nature that day.

 

Dhanhukodi Beach

During the bumpy ride, Taxi driver pointed us at the remains of the rail tracks covered with sand, and those of the school, the hospital and office buildings. He also shows us the village that includes some 50 households staying in makeshift thatched houses.

 

They say that Bay of Bengal is male in Dhanushkodi and female in Rameswaram, where it embraces Indian Ocean, after devastating seven-km sand strip separating them.

Dhansukodi Bea

 

We roamed around in the village and found some of the fishermen with their boats collecting their catch for the day. We also saw a few women washing clothes near a well and wonder where they get their water from. There seem to be a few wells that have salty water that people use for washing clothes and utensils.

 

Before the 1964 cyclone, Dhanushkodi was a flourishing tourist and pilgrimage town.

Since Ceylon (Now Sri Lanka) is just 19 miles (31 km) away, there were many ferry services between Dhanushkodi and Talaimannar of Ceylon, transporting travelers and goods across the sea. There were hotels, textile shops and dharmshalas catering to these pilgrims and travelers.

Last BSNL Tower of Dhanuskodi Beach

At the “land’s end” terminus of the peninsula to the southeast of Dhanushkodi begins the chain of rocks and islets known as Rama’s Bridge. These lead approximately 19 miles across the Paik Strait to Mannar Island on the northwestern tip of Sri Lanka.

 

I found there a last Mobile Tower of BSNL, which was getting good signals, by which I was connected with my people. Wow; My mobile was receiving signals of Sri Lanka.  

Dhanuskodi as in Hindu Mythology

The name Dhanushkodi sounds musical. In local parlance, Dhanushkodi means ‘Bow’s end’. The gently shaped shoreline here does indeed suggest a bow. 

Hindu scriptures says that at the request of Vibhishana, brother of Ravan and ally of Rama, Rama broke the Sethu with one end of his bow and hence the name Dhanushkodi, Dhanush meaning Bow and Kodi meaning end.

 

It is also said that Rama marked this spot for Setu with one end of his famous bow. Bath in holy Sethu at the junction of the two seas normally precedes the pilgrimage to Rameswaram. A series of rocks and islets found in a line are shown as remnants of the ancient Setu also called as Rama’s Bridge.

A village WOMAN of Dhanuskodi Beach

 

A local Man at Dhanuskodi Beach

It is said that Pilgrimage to Kashi will be completed only after the worship at Rameswaram besides a holy bath in Dhanushkodi at the Confluence of Mahodadhi (Bay of Bengal) and Ratnakara (Indian Ocean). Setu is the Sanskrit word to denote a bridge or causeway. It has now acquired a special significance to mean the bridge across the ocean constructed by Ram to reach Lanka.

 

A memorial erected near the Dhanushkodi bus stand reads as follows:

“A cyclone storm with high velocity winds and high tidal waves hit Dhanushkodi town from 22 December 1964 midnight to 25 December 1964 evening causing heavy damages and destroying the entire town of Dhanushkodi”

 

At Dhanushkodi one can see the deep and rough waters of Indian Ocean meeting the shallow and calm waters of Bay of Bengal. Since the sea is shallow here, one can walk into Bay of Bengal and witness the colorful corals, fishes, seaweeds, star fishes and sea cucumber etc.

 

Entering the ghost town, I was caught in a time warp.

Exploring the ruins along the desolate coastline, I found a roofless, battered edifice, which looked like it must have once been a church. Inside, a pedestal, which could have been the altar, stood intact. A sense of peace overwhelmed me as I stood inside, gazing at the unscathed altar.

Ruins of  A Church

 

At Main land of now a ghost town Dhanushkodi beach: The last south eastern land of India.

I could imagine the pews packed with a choral-singing congregation and the church resonating with prayers and the pastor preaching sermons during a Sunday morning mass.

 

Moving on I found that the sand had gobbled up everything in the course of time except for the crumbling walls of a few scattered buildings with exposed bricks that stand as mute witness to the terrible tragedy in which a storm washed away this hamlet.

 

I came across the four-pillared structure of a water tank and stumbled upon the Dhanushkodi railway station, a solid stone structure that is a sad reminder of the ferocity of the storm and the havoc created by the raging sea.

 

Further to the tank are some ruins of the quarters for railwaymen. In some places the meter gauge tracks were discernible half-hidden under the sand. These were the rails that carried the Boat Mail to Dhanushkodi.

 

There is a big building that was once a school, two-thirds of the insides strangely covered with mounds of sand. It would have housed school kids once, most of who were probably washed away that fateful day in the storm.

 

Strolling among the ruins, I could not believe that the now abandoned village was once a bustling center for travel and trade, connecting India and Sri Lanka with a railway and ferry service.

Ruins of Railway Station

 

I just walked on the beach, went little inside the water, to the end of the peninsula where the Bay of Bengal and the Indian Ocean meet. I could gaze upon Adam’s Bridge, the chain of reefs, sandbanks and the islets that almost connect Sri Lanka with India. There was no turbulence, only peaceful blue Bay of Bengal.

 

The winds were so soothing, full of moisture, when it touches; I felt I was never touched by something so pure. The water was clean, the sand was cleaner. What a fun adventurous ride that was, although the water is shallow but still you feel the thrill of going inside the sea, the boats on the left  and lot of seagulls flying. The winds were so soothing, full of moisture, when it touches; I felt I was never touched by something so pure. The water was clean, the sand was cleaner.

 

It was absolutely wonderful! Seeing two oceans meet is a heart-warming sight and the feeling. Water from two oceans was brushing under our feet … amazing. I had been dying to see this place.This point of this tour just made my entire trip-- A golden memory.

 

If you have the ears to listen the silence too. You may hear the sounds of cries, the recitements of the prayers in the remnants of the Catholic Church, the noises from the broken pieces of busy railway station and the port office.

The End













































































Thursday, 13 May 2021

Mohabbat Ki Pehchan: Dil ko Choo lene Wali Ek Hindi Story: By Krishan Chander

पहले दिन जब उसने वक़ार को देखा तो वो उसे देखती ही रह गई थी। अस्मा की पार्टी में किसी ने उसे मिलवाया था।इनसे मिलो ये वक़ार हैं। वक़ार उसके लिए मुकम्मल अजनबी था मगर उस अजनबी-पन में एक अजीब सी जान-पहचान थी।

 

जैसे बरसों या शायद सदियों के बाद आज वो दोनों मिले हों, और किसी एक ही भूली हुई बात को याद करने की कोशिश कर रहे हों। दूसरी बार शाहिदा की कॉफ़ी पार्टी में मुलाक़ात हुई थी, और इस बार भी बज़ाहिर उस बेगानगी के अंदर वही यग़ानगत उन दोनों को महसूस हो रही थी। ये पहली निगाह वाली मुहब्बत नहीं थी। एक अजीब सी क़ुरबत और गहरी जान पहचान का एहसास था। जो दोनों के दिलों में उमड़ रहा था जैसे बहुत पहले वो कहीं मिले हैं। बहुत लंबी-लंबी बहसें की हैं।

 

आदात, ख़्यालात और ज़ाती पसंद के ताने-बाने पर एक दूसरे को परखा है। वो दोनों एक दूसरे के हाथ की गर्मी को जानते हैं। उस बर्क़ी रौ को पहचानते हैं जो निगाहों ही निगाहों में एक दूसरे को देखते ही दौड़ने लगती है। वो डोर जो दिल ही दिल में अंदर बंध जाती है और एक दूसरे से अलग होने के बाद अपने अपने घरों में अलग अलग, अपने अपने कमरों में अकेले आराम, सुकून और चैन से बैठे हुए भी यूँ महसूस होता है, जैसे वो डोर हिल रही है।

 



एक ही समय में, वक़्त और एहसास के एक ही सानहे में वो दोनों एक दूसरे को याद कर रहे हैं। रात की तन्हाई में अज़्रा को अपने बिस्तर पर अकेले लेटे-लेटे एक दम एहसास हुआ जैसे उसके बहुत ही क़रीब उसके चेहरे पर वक़ार झुका हुआ है। घबरा कर उसने बेड स्विच दबा कर रौशनी की। कमरे में कोई ना था।

 

फिर भी वो घबरा सी गई। लजा सी गई उस एक लम्हे में ऐसा महसूस हुआ जैसे उसका राज़ वक़ार को मालूम हो गया। तीसरी बार जब वक़ार से रऊफ़ की दावत पर मिली तो बे इख़तियार उस की आँखें झुक गईं और रुख़्सारों पे रंग गया। मुहब्बत करने वाली औरत का दिल बहुत शफ़्फ़ाफ़ है।

 

वक़ार और अज़्रा को एक दूसरे के क़रीब आते ज़्यादा देर नहीं लगी। कुछ ऐसा महसूस होता है जैसे बनाने वाले ने उन दोनों को बनाया तो एक दूसरे के लिए ही था। दोनों ज़िद्दी और मग़रूर थे। रास्त बाज़ और मेहनती, ना किसी से दबने वाले ना किसी से बेजा ख़ुशामद करने वाले, दोनों किसी क़दर कज-बहस भी थे।

 

और शायद वो बहस सदियों पहले उनके दरमियान शुरू हुई थी अब फिर जारी हो रही थी। दोनों साईंस के बहुत अच्छे तालिब--इल्म थे। और यूनीवर्सिटी के चीदा स्कॉलरों में उनका शुमार होता था और आजकल साईंस में फ़लसफ़े से कहीं ज़्यादा बहस करने का मौक़ा है।

 

इस पर तुर्रा ये कि दोनों वजीहा, ख़ूबसूरत और हसीन थे। लगता था क़ुदरत ने दोनों को एक ही साँचे और ठप्पे में ढाल कर एक दूसरे से दूर फेंक दिया था। हालात के महवर पर गर्दिश करते-करते अचानक वो एक दूसरे से आन मिले थे और अब ऐसा लगता था जैसे कभी एक दूसरे से अलग ना होंगे।

 

ये पहचान तीन-चार साल तक चलती गई और गहरी होती गई। इस अरसे में वक़ार आई एस(IAS) के इंतिख़ाब में चुका था और ट्रेनिंग हासिल कर रहा था। अज़्रा भी नैशनल लेबॉरेट्रीज़ में मुलाज़िम हो चुकी थी और अपने महबूब मौज़ू क्रिस्टोलॉजी पर रिसर्च कर रही थी। ज़िंदगी उन दोनों के लिए बहार के पहले झोंके की तरह शुरू हो रही थी।

 

उन दोनों ने शादी का फ़ैसला कर लिया था। मगर शादी से चंद रोज़ पहले अज़्रा के मुँह से 'नहीं' निकल गया। बरसों बाद आज भी जब वो वाक़्ये को याद करती है तो उसे उसनहीं पर हैरत तो नहीं होती, हाँ इसनहीं पर जमे और अड़े रहने पर हैरत होती है।

 

वो दोनों नैशनल पार्क के एक घने कुंज में घास पर दस्तर-ख़्वान बिछाए खाना खा रहे थे। दूर ऊपर कहीं सूरज था। बीच में चमेली के पीले-पीले फूल थे जिनके ओट में कहीं-कहीं झील का नीला पानी एक शरीर बच्चे की तरह उन दोनों की तन्हाई में झांका जाता है। कोई कश्ति साहिल से गुज़र जाती है।

 

कोई प्यार करने वाली लड़की अपने चाहने वाले के बाज़ू पर सर रखकर हंस रही है। उसकी हंसी सफ़ेद बादल का एक टुकड़ा है। इस दुनिया में हमेशा क़यामतें आतीं रहेंगी और हमेशा वो एक दूसरे से झगड़ेंगे। दस गज़ ज़मीन के लिए, कभी एक झूटे ग़ुरूर के लिए और हमेशा कोई ना कोई आफ़त टूटती रहेगी इस दुनिया में।

 

मगर मुहब्बत सिर्फ एक-बार आती है। बादल के सफ़ेद टुकड़े की तरह झील में एक कश्ति की तरह तैरती हुई चाहत के बाज़ू पर सर रखे हुए आसमान को तकती हुई, दिल के साहिल को छूती हुई गुज़र जाती है। कोई हाथ बढ़ा के रोक ले तो रुक जाती है वर्ना मौत की गूंज की तरह कहीं और चली जाती है।

 

ऐसे ठंडे से मीठे शहद भरे लम्हे वो बहस शुरू हुई थी। वक़ार ने उसे मश्वरा दिया था कि शादी के बाद अज़्रा नैशनल लेबॉरेट्रीज़ में काम करना छोड़ दे। वक़ार अब आई एस (IAS) में चुका है। ख़ुदा के फ़ज़ल से हर तरह की फ़राग़त उसे हासिल है अब अज़्रा को इस्तीफ़ा दाख़िल कर देना चाहीए। चंद दिनों में उनकी शादी होने वाली है अज़्रा के मुँह से ना निकल गई।नहीं वो अपनी मुलाज़मत कभी तर्क नहीं करेगी।

 

मुलाज़मत छोड़ने की ज़रूरत क्या है उसे एक काम पसंद है। वो रिसर्च करना चाहती है। शादी का ये मतलब तो हरगिज़ नहीं है कि औरत मर्द की ग़ुलाम हो कर रह जाये। घरदारी में ऐसा कौन सा वक़्त लगता है खाना बावर्ची पकाएगा, पानी नल से आएगा, झाड़ू-बुहार, झाड़-पोंझ का काम मनियार करेगी। बाक़ी रह क्या गया? सोफ़े पर एक उम्दा साड़ी पहन कर शौहर की राह तकना? सो ये काम कौन सा मुश्किल है। दफ़्तर से आते ही चंद मिनट में साड़ी बदल कर मुँह हाथ धो कर दरवाज़ा पर टंगी हुई एक रोशन मुस्कुराहट की तरह खड़ा हुआ जा सकता है।

 

जूँ-जूँ वो बात करते गए बहस उलझती ही गई। अज़्रा को अंदाज़ा हो रहा था कि बहस ग़लत रास्ते पर जा रही है मगर जोश के आलम में वो भी बोलती चली गई। बहस के दौरान उसे ये भी एहसास हुआ कि वो घर और उसकी ज़िम्मेदारी और उसके एहसास की एहमियत को महज़ बेहस की ख़ातिर कम करती जा रही है। कुछ ये भी एहसास होने लगा कि वैसे वक़ार की दलील में वज़न ज़्यादा है। इस बात से वो और भी बिफर गई। उसके लहजे में तल्ख़ी आने लगी।

 

फिर उसे ये महसूस हुआ जैसे ये सब कुछ ग़लत हो रहा है। उसे मुआमले को सँभाल लेना चाहीए मगर वो एकना जो उसके मुँह से निकली तो निकलती ही चली गई।और वो बहस के दौरान मज़ीद कज-बहसी से काम लेने लगी। वक़ार भी संजीदगी को छोड़कर गुस्से से काम लेने लगा तुम्हें ये नौकरी छोड़ देनी होगी।

 

तुम मुझे ऐसी कोई धमकी नहीं दे सकते। अज़्रा के लहजे में आँसू आने लगे वो और भी अपने अक़ीदे पर सख़्त होती गई।


किसी क़ीमत पर में ये मुलाज़मत नहीं छोड़ूँगी। चाहे शादी हो या हो। मैं अपना काम बंद नहीं करूँगी।

Krishan Chander

 

यकायक अज़्रा ने अपना फ़ैसला दे दिया। और बहस एक दम बंद हो गई। दस्तर-ख़्वान लपेट दिया गया। ख़ामोशी में झील के किनारे बर्तन धोए गए। एक कश्ती मर्दों औरतों की हंसी से भरी हुई शरीर बच्चों की किलकारियों से मामूर क़रीब से गुज़रती जा रही थी। अज़्रा का जी चाहा वो हाथ बढ़ा के इस कश्ति को रोक ले वरना ये सब बच्चे चले जाऐंगे और वो अकेली रह जाएगी।

 

मगर उसके दिल में इतना ग़म और ग़ुस्सा और ग़ुरूर भरा हुआ था कि वो कुछ ना कर सकी। टिफ़िन के एक ख़ाली बर्तन को हाथ में लिए पानी में खंगालती रही और पानी अल्मूनियम की दीवारों से एक बे-मआनी फ़िक़रे की तरह टकराता रहा।

 

गाड़ी में भी उसे ख़्याल आया कि वो वक़ार की बात मान जाये अपनी ज़िद तर्क कर दे। एक कमज़ोर लम्हे का सहारा ले कर अपने आपको वक़ार की गोद में सर रख दे। मगर वो मुल्तजी लम्हा गुज़र गया और वो चट्टान की तरह सख़्त और मग़रूर बनी अपनी सीट पर वक़ार से अलग बैठी रही हत्ता ये कि उसका फ़्लैट गया।

 

वक़ार अलिफ़ और अज़्रा की शादी नहीं हुई। वक़ार अपनी पोस्टिंग पर तन्हा ही चला गया। अज़्रा ने भी किसी दूसरे बड़े शहर में ट्रांसफ़र करवा लिया। बहुत से साल गुज़र गए। दिल बुझ सा गया। वक़ार अब भी अज़्रा को याद आता था। तन्हा रातों में, ज़िंदगी के उजाड़ और तवील लम्हों में वक़ार की जुदाई बहुत खलने लगी। मर्द तो बहुत थे और एक हज़ार तनख़्वाह पाने वाली औरत के लिए मर्दों की क्या कमी हो सकती है। मगर वो दूसरे मर्द से शादी तो जब करे जब वक़ार को किसी तरह भूल जाये और वो कम्बख़्त दिल से उतरता ही नहीं।

 

अज़्रा ने शादी नहीं की। मगर उसने चंद माह का यतीम बच्चा गोद लेकर पाल लिया। मुन्ना भी अब चार साल का हो चुका था और अपने बाप को पूछता था।

अम्मी, अब्बू कहाँ हैं?”

कैनेडा गए हैं।

कैनेडा कहाँ हैं?”

यहाँ से बहुत दूर है।

कब आएँगे।

नहीं आएँगे।

क्यों नहीं आएँगे। सब के अब्बू तो रात को घर आते हैं। मेरे अब्बू क्यों नहीं आते?”

 

वो ला-जवाब हो कर चुप हो जाती। मगर मुन्ना पूछता ही रहता। कंडुर गार्डन में जब उसे दाख़िल कराने का सवाल आया तो मुन्ने के बाप का नाम पूछा गया। एक दम से अज़्रा ठिटक सी गई। फिर आहिस्ता से बोली।

वक़ार हुसैन।

 

नाम लिख लिया गया। मुन्ने के दिल पर दर्ज भी हो गया। उसी रात मुन्ने ने अपनी अम्मी के गले में बाँहें डाल कर पूछा, “अम्मी क्या मेरे अबू का नाम वक़ार हुसैन है?”

हाँ बेटा...” अज़्रा की आँखों से आँसू छलकने लगे।

देखने में कैसे हैं मेरे अब्बू?” मुन्ने ने दूसरा सवाल किया।

 

अज़्रा बात को ख़त्म करने की ख़ातिर एक ट्रंक खोल कर उसमें से वक़ार की एक तस्वीर निकाल कर लाई और मुन्ने के हाथ में दे दी। मुन्ना देर तक उस तस्वीर को ग़ौर से देखता रहा। फिर उसने अपने अब्बू की तस्वीर को अपने नन्हे से सीने से लगा लिया फिर तस्वीर का मुँह चूम कर बोला, “मेरे अब्बू...मेरे अब्बू...”

 

अज़्रा ने उसे जल्दी से गले लगा लिया। और फूट-फूटकर रोने लगी मगर मुन्ना नहीं रोया। वो मर्द था और जब अज़्रा के आँसू ख़त्म हो गए तो उसने गंभीर और संजीदा लहजे में अज़्रा से पूछा, “अम्मी क्या अब्बू तुमसे ख़फ़ा हैं?” अज़्रा ने आहिस्ता से इस्बात में सर हिलाया।

 

मुन्ना देर तक अपनी अम्मी को ग़ौर से घूरता रहा। उसके मासूम भोले चेहरे पर दोनों अबरुओं के दरमयान सोच की एक गहरी लकीर बन गई थी। मुन्ने ने अपने गाल पर उंगली रखते हुए कहा, “रो नहीं अम्मी। मैं जब बड़ा हो जाऊँगा तुम्हें अबू के पास कैनेडा लेकर चलूँगा।

 

कैनेडा?” वक़ार तो हिन्दोस्तान में था कहीं पर। उसे ये भी नहीं मालूम था कि अज़्रा कहाँ पर है। ये भी मालूम था कि कहीं पर उसके एक बेटा भी पैदा हो चुका है। ये भी नहीं मालूम था कि उस बच्चे ने अपने कमरे में दीवार पर उसकी तस्वीर टाँग ली है और उससे बातें करता है।

 

वक़ार को ये सब कुछ मालूम नहीं था। मगर शादी उसने भी नहीं की। अभी ज़ख़्म भरा नहीं था। कुछ ये भी महसूस होता था कि जो औरत इस दुनिया में उसके लिए थी, जो सही माअनों में उसकी साथी हो सकती थी उसको उसने अपनी ज़िद में खो दिया। आज भी उसे एहसास था कि बात उसी की सही थी, दलील जायज़ और वज़नी मगर वो जो अपनी बात मनवाने के लिए तुल गया था उसी एक बात ने शायद अज़्रा को उससे बर्गशता--ख़ातिर कर दिया था।

 

वो अगर उस की मुलाज़मत तर्क करने पर इस क़दर इसरार ना करता तो यक़ीनन अज़्रा भी इतनी ज़िद ना करती। मुम्किन था कुछ अर्से के बाद ख़ुद ही छोड़ देती। या बच्चा होने के बाद तो ज़रूर ही ख़ुद से ये मुलाज़मत छोड़ देती। एक ज़रा सी बात के लिए, अपनी... मर्द की बेहूदा ख़ुदी की ख़ातिर वक़ार ने अपनी मुहब्बत को ठुकरा दिया था। ये एहसास दिन--दिन बढ़ता जा रहा था।

 

अंदर ही अंदर वक़ार अपनी ग़लती पर पेँच--ताब खाता मगर अब कुछ नहीं हो सकता था। दिन गुज़रते गए, महीने गुज़रते गए, बरस गुज़रते गए। क्या जवानी इसी तरह गुज़र जाएगी। तब वो अय्याश बाश आदमी नहीं था। वो घरेलू सुकून पसंद एक ही औरत वाला मर्द था। इधर-उधर की ताक झाँक से वो घबराता था। उसने अपनी ज़िंदगी में सिर्फ अज़्रा, उसके बच्चों और उसके घर का तसव्वुर किया था। और जब उसे वही घर नहीं मिला तो उसने भी शादी का ख़्याल तर्क कर दिया और अपने आपको अपने काम में ग़र्क़ कर दिया।

 

एक-बार वो नागपुर से दिल्ली के लिए फ़्लाई कर रहा था। मानसून के दिन थे, मौसम बहुत ख़राब और तूफ़ानी हो रहा था। उसके जहाज़ को रास्ता बदल कर हैदराबाद के हवाई अड्डे पर उतरना पड़ा। इंजन में भी ख़राबी पैदा हो गई थी। मौसम बेहद ख़राब हो रहा था। मालूम हुआ रात यहीं काटनी पड़ेगी।

 

सब मुसाफ़िरों को रात के क़ियाम के लिए रिट्ज़ होटल ले जाया गया। हैदराबाद आने का उसे मौक़ा मिल था। चाय पी कर वो बाहर निकल खड़ा हुआ। हवा में झक्कड़ और ख़ुनकी के आसार थे। कसीफ़ बादलों की गहरी सिलवटों में डूबते हुए सूरज की सुर्ख़ी थी। सड़क पर घास, तिनके और इमली के ख़ुश्क पत्ते उड़ रहे थे। वक़ार ने अपने कोट के कालर ऊंचे कर लिए और उस सड़क पर हो लिया जो एक ऊंची पहाड़ी चट्टान के किनारे-किनारे अपना रास्ता काटती हुई नीचे को जाती थी।

 

कुछ देर के बाद वो हैदराबाद को सिकंदराबाद से जुदा करने वाले निज़ाम ताल पर था और मीलों तक फैले हुए पानी का नज़ारा कर रहा था। बाँध की सड़क पर घूमता-घूमता वो किसी दूसरी सड़क पर घूम गया। फ़िज़ा में अजीब उदासी सी थी। सड़कों पर रोशनी हो चली थी। मगर झक्कड़ ज़दा माहौल में ये ज़र्द रोशनी मायूसी को तोड़ने की नाकाम कोशिश कर रही थी।

 

अब चारों तरफ़ छोटे-छोटे बंगले थे जिनकी निस्फ़ क़द--आदम दीवारों से बोगन वेलिया की फूलदार शाख़ें झांक रही थीं। कहीं कहीं पर अमलतास और इमली के पेड़ शाख़ों से शाख़ें मिलाए उसके सर के ऊपर उसके ख़िलाफ़ किसी साज़िश में मसरूफ़ नज़र आते थे। एक आदमी एक मैली चद्दर ओढ़े एक पान वाले से बीड़ी का एक बंडल ख़रीद रहा था और क़रीब के दिल-शाद होटल के मैले माहौल से एक ट्रान्ज़िस्टर के ग़ैर ज़ाती संगीत की आवाज़ रही थी।

 

मौसीक़ी अगर ज़ाती ना हो तो महज़