Tuesday, 15 June 2021

The Lost City Pompeii:--The Volcanic Eruption Turned People into Stone And Ashes Within Seconds.

Pompeii remained undiscovered for 1,500 years after the tragic volcano eruption. The volcanic eruption turned people into stone and ashes within seconds.

 

For centuries after the deadly eruption, Pompeii was buried and forgotten by humankind, but the remains of the city were kept perfectly preserved, and today they provide us many with fascinating facts about the ancient civilization of Pompeii and the secrets of Mount Vesuvius.

 

It wasn’t until 1599 that Pompeii was accidentally rediscovered by Italian architect Domenico Fontana while he was digging a water tunnel. Even though the excavation of Pompeii started well over 3 centuries ago, it still continues to this day.

 

The disaster that befell Sodom and Gomorrah is very similar to the disaster that destroyed Pompeii.

 

The Qur'an tells us in the following verse that there is no change in Allah's Law;

 

Al-Qur'an 35:42-43

Yes, no change will be found in Allah's way (rules). Everybody, who stands against his laws and rebels against Him, is subject to the same divine law. Pompeii, the symbol of the degeneration of the Roman Empire was also involved in sexual perversity. Its end was similar to that of the people of Lut.

 

On 23 August AD 79, the people of Pompeii were celebrating the Festival of Vulcan, the God of Fire, enjoying a glorious summers day unaware that for most of them it was to be their last.

 

All life in Pompeii was wiped out in just 15 MINUTES of the catastrophic volcano eruption that suffocated thousands in the Roman city 2,000 years ago.

 

Pompeii was destroyed and completely buried during the catastrophic eruption of the volcano Mt Vesuvius.

 


Pompeii was a town of some 20,000 inhabitants situated on the shoreline of the Bay of Naples on the fertile flat-lands at the foot of Mount Vesuvius. It was a bustling and prosperous town in an area of Campania that was fast becoming the chosen playground of the rich.

 

But the lava of Vesuvias wiped the whole city off the map in a single moment. The most interesting aspect of the event is that nobody escaped despite the terrible violence of the eruption of Vesuvias. It is almost like they did not even notice the catastrophe, as if they were charmed.

 

Moments later Vesuvius exploded once again sending millions of tons of molten lava surging towards the town at more than 100 kilometers an hour.

 

It would destroy everything in its path. But its effects would descend upon many of those still huddled in their homes long before the lava arrived.

 

The bottom of Vesuvius now collapsed sending a black cloud of death across the Bay of Naples choking to death many of those who had earlier fled into the countryside believing they had escaped.

 

The removal of Pompeii from the face of the earth by such a disaster was not purposeless. The historical records show that the city of Pompeii was exactly a center of debauchery and sexual pleasure of life.

 

The city was marked by a rise in prostitution to such an extent that eventually the number of brothels was not known. Male organs in their original sizes were hung on the doors of brothels. According to tradition, rooted in Mithraic belief, sexual organs and sexual intercourse should not be hidden but displayed openly.

 

(Archeologists first excavated the city during Victorian times, shocked by the open sexual perversity of the people, a secret museum was formed to house some of the artifacts found.

 

These included many falic symbols, images of homosexuality and even bestiality, to be viewed only by a select ‘League of Gentlemen' who Victorian society deemed to be capable of dealing with the images.)

 

A family eating their meal were petrified right at that moment. Numerous petrified couples were found in the act of intercourse. The most interesting thing is that there were couples of the same sex and couples of young boys and young girls.

 

Here lies the most incomprehensible aspect of the calamity. How did thousands of people wait to be caught by death without seeing and hearing anything?

 

This aspect of the event shows that the disappearance of Pompeii was similar to the destructive events mentioned in the Qur'an, because the Qur'an particularly points to "sudden annihilation" while relating these events.

 

For example, the "inhabitants of the city" described in Surah Yasin died all at once in a single moment. The situation is told as follows in the 29th verse of the Surah:

"It was no more then a single mighty blast, and behold! They were (like ashes) quenched and silent. "In the 31st verse of Surah al-Qamar, again the "instantaneous annihilation" is emphasized when the destruction of Thamud is recounted:


"For we sent against them a single mighty blast, and they became like the dry stubble used by one who pens cattle."

The death of the people of Pompeii took place instantaneously, just as the events recounted in the above verses.

Erotic, Lustfull, lewd life of Romans (Pompeii)


In the Classical world sex was nothing more than a pleasurable experience and due to the Gods they worshiped; In fact the Penis or Phallus was seen as a symbol of the rejuvenate power and force of nature.

 

There was such a large amount of erotic frescoes and artifacts that in 1599 when the digging of an underground tunnel, diverting the river Sarno hit an ancient wall displaying an erotic scene, the image was plastered over by Dominico Fontana

 

Pompeii was once full of symbols of the Phallus and other erotic imagery as the people of Pompeii and Herculaneum thrived off their sexual encounters.

 

The preserved art and sculpture of Pompeii demonstrates the behaviors and experiences of the civilians occupying Pompeii at the time of its destruction.

 

The Phallus is a symbol of the forces of nature and fertility and because of its consistent appearance we are able to assume that the people of Ancient Rome were familiar and comfortable with the male genitals.

 

Penis was not a pornographic image and that it was a symbol of luck and fertility. This allows us to understand that Christianity developed the conservation's that censor sexuality today.

 

During Excavations a number of Brothels were discovered including Laupanare which consisted of 10 small rooms, erotic frescoes, sexual graffiti and brick base beds with stone pillows.

 

A number of erotic images were discovered on the walls however it is unclear whether each image depicts the sexual act that is performed or if they are there as a form of pornography to heighten pleasure.

 

The excavations of Brothels reflect the ambivalent behaviors and attitudes toward the pleasure of sex and indicate that prostitution was not only legal but the state could possibly have owned the brothels themselves.

 

This means that with out the eruption we would be unaware of how the Romans felt about sex and how they enjoyed the pleasure of sex to such an extent that it was actually a business.

 

These brothels give us a unique perspective of the daily activities of the Romans and also show us that prostitution was a form of income for some woman.

 

Despite all these, things have not changed much where Pompeii once stood. The districts of Naples where debauchery prevails do not fall short of those licentious districts of Pompeii. The island of Capri is a base where homosexuals and nudists rule.

 

The island of Capri is represented as a "Homosexual Paradise" in tourist commercials. Not only on the island if Capri and in Italy, but in nearly all the world, a similar moral degeneration is at work and people insist on not learning form the awful experience of past peoples.


The End

Disclaimer–Blogger has prepared this short write up The Lost City Pompeii:--The Volcanic Eruption Turned

People into Stone and Ashes within Seconds. with help of materials and images available on net. Images on this blog are posted to make the text interesting.The materials and images are the copy right of original writers. The copyright of these materials are with the respective owners. Blogger is thankful to original writers. 

 
























































































































Wednesday, 9 June 2021

Chughad:--Aligarh Wale “Saadat Hasan Manto” ki Ek Short Story. चुग़द; सआदत हसन मंटो

लड़कों और लड़कियों के मआशिक़ों का ज़िक्र हो रहा था। प्रकाश जो बहुत देर से ख़ामोश बैठा अंदर ही अंदर बहुत शिद्दत से सोच रहा था, एक दम फट पड़ा। सब बकवास है, सौ में से निन्नानवे मआशिक़े निहायत ही भोंडे और लचर और बेहूदा तरीक़ों से अमल में आते हैं। एक बाक़ी रह जाता है, इस में आप अपनी शायरी रख लीजीए या अपनी ज़ेहानत और ज़कावत भर दीजीए...... मुझे हैरत है... तुम सब तजरबाकार हो।

 

औसत आदमी के मुक़ाबले में ज़्यादा समझदार हो। जो हक़ीक़त है, तुम्हारी आँखों से ओझल भी नहीं। फिर ये क्या हिमाक़त है कि तुम बराबर इस बात पर ज़ोर दिए जा रहे हो कि औरत को राग़िब करने के लिए नरम--नाज़ुक शायरी, हसीन--जमील शक्ल और ख़ुशवज़ा लिबास, इतर, लोन्डर और जाने किस किस ख़ुराफ़ात की ज़रूरत है और मेरी समझ से ये चीज़ तो बिलकुल बालातर है कि औरत से इश्क़ लड़ाने से पहले तमाम पहलू सोच कर एक स्कीम बनाने की क्या ज़रूरत है।

 

चौधरी ने जवाब दिया। ”हर काम करने से पहले आदमी को सोचना पड़ता है।प्रकाश ने फ़ौरन ही कहा।मानता हूँ। लेकिन ये इश्क़ लड़ाना मेरे नज़दीक बिलकुल काम नहीं...... ये एक...... भई तुम क्यों ग़ौर नहीं करते। कहानी लिखना एक काम है। इसे शुरू करने से पहले सोचना ज़रूरी है लेकिन इश्क़ को आप काम कैसे कह सकते हैं...... ये एक...... ये एक...... ये एक... ... मेरा मतलब है।

 

इश्क़ मकान बनाना नहीं जो आप को पहले नक़्शा बनवाना पड़े...... एक लड़की या औरत अचानक आप के सामने आती है। आप के दिल में कुछ गड़बड़ सी होती है। फिर ये ख़्वाहिश पैदा होती है कि वो साथ लेटी हो। इसे आप काम कहते हैं......ये एक...... ये एक हैवानी तलब है जिसे पूरा करने के लिए हैवानी तरीक़े ही इस्तिमाल करने चाहिऐं। जब एक कुत्ता कुतिया से इश्क़ लड़ाना चाहता है तो वो बैठ कर स्कीम तैय्यार नहीं करता।

 

इसी तरह सांड जब बू सून्घ कर गाय के पास जाता है तो उसे बदन पर इतर लगाना नहीं पड़ता...... बुनियादी तौर पर हम सब हैवान हैं। इस लिए इशक़--मोहब्बत में जो दुनिया की सब से पुरानी तलब है, इंसानियत का ज़्यादा दख़ल नहीं होना चाहिए।

 

मैंने कहा।तो इस का ये मतलब हुआ कि शेअर--शायरी, मुसव्विरी, सनम तराशी ये सब फुनूने लतीफ़ा महज़ बे-कार हैं?”

 

प्रकाश ने सिगरेट सुलगाया और अपना जोश बक़दर--किफ़ायत इस्तिमाल करते हुए कहा।महज़ बे-कार नहीं...... मैं समझ गया तुम क्या कहना चाहते हो, तुम्हारा मतलब ये था कि फुनूने लतीफ़ा के वजूद का बाइस औरत है, फिर ये बे-कार कैसे हूए। असल बात ये है कि उन के वजूद का बाइस ख़ुद औरत नहीं है, बल्कि मर्द की औरत के मुतअल्लिक़ हद से बढ़ी हूई ख़ुशफ़हमी है।

 

मर्द जब औरत के मुतअल्लिक़ सोचता है तो और सब कुछ भूल जाता है। वो चाहता है कि औरत को औरत समझे...... औरत को महज़ औरत समझने से उस के जज़्बात को ठेस पहुंचती है! चुनांचे वो चाहता है उसे ख़ूबसूरत से ख़ूबसूरत रूप में देखे। योरपी ममालिक में जहां औरतें फ़ैशन की दिलदादा हैं, उन से जा कर पूछो कि उन के बालों, उन के कपड़ों, उन के जूतों के नित नए फ़ैशन कौन ईजाद करता है।

 

चौधरी ने अपने मख़सूस बे-तकल्लुफ़ाना अंदाज़ में प्रकाश के कांधे पर हौले से तमांचा मारा।

 

तुम बहक होगए हो यार...... जूतों के डिज़ाइन कौन बनाता है, सांड गाय के पास जाता है तो उसे लोन्डर लगाना नहीं पड़ता। यहां बातें होरही थीं कि लड़कों और लड़कियों के वही रोमान कामयाब होते हैं जो शरीफ़ाना ख़ुतूत पर शुरू हों।

 

प्रकाश के होंटों के कोने तंज़ से सिकुड़ गए।चौधरी साहब क़िबला! आप बिलकुल बकवास करते हैं। शराफ़त को रखीए आप अपने सिगरेट के डिब्बे में, और ईमान से कहीए वो लौंडिया जिस के लिए आप पूरा एक बरस रूमालों को बेहतरीन लोन्डर लगा कर स्कीमें बनाते रहे, क्या आप को मिल गई थी?”

 

चौधरी साहब ने किसी क़दर खिसयाना हो कर जवाब दिया।नहीं।

क्यों?”

वो...... वो किसी और से मोहब्बत करती थी।

 

किस से...... किस उल्लु के पट्ठे से...... एक फेरी वाले बज़ार से जिस को तो ग़ालिब के शेअर याद थे कृष्ण चन्द्र के अफ़साने। जो आप के मुक़ाबले में लोन्डर लगे रूमाल से नहीं बल्कि अपने मैले तहमद से नाक साफ़ करता था।प्रकाश हंसा।चौधरी साहब क़िबला, मुझे याद है आप बड़ी मोहब्बत से उसे ख़त लिखा करते थे। उन में आसमान के तमाम तारे नोच कर आप ने चिपका दिए।

 

चांद की सारी चांदनी समेट कर उन में फैला दी मगर उस फेरी वाले बज़ार ने आप की लौंडिया को जिस की ज़हनी रिफ़अत के आप हरवक़्त गीत गाते थे, जिस की नफ़ासतपसंद तबीयत पर आप मर मिटे थे, एक आँख मार कर अपने थानों की गठड़ी में बांधा और चलता बना...... इस का जवाब है आप के पास??”

 

चौधरी मिनमिनाया: “मेरा ख़याल है जिन ख़ुतूत पर मैं चल रहा था, ग़लत थे। उस का नफ़सियाती मुताला भी जो मैंने किया था दरुस्त साबत हुआ।

 

प्रकाश मुस्कुराया: “चौधरी साहब क़िबला! जिन ख़ुतूत पर आप चल रहे थे, यक़ीनन ग़लत थे। उस का नफ़सियाती मुताला भी जो आप ने किया था, सौ फ़ीसद दरुस्त था और जो कुछ आप कहना चाहते हैं वो भी ठीक नहीं है।

 

इस लिए कि आप को ख़त-कुशी और नफ़सियाती मुताले की ज़हमत उठानी ही नहीं चाहिए थी। नोटबुक निकाल कर इस में लिख लीजीए कि सौ में सौ मक्खियां शहद की तरफ़ भागी आयेंगी और सौ में निन्नानवे लड़कियां भोंडे पन से माइल होंगी।

 

प्रकाश के लहजे में एक ऐसा तंज़ था जिस का रुख़ चौधरी की तरह इतना नहीं था जितना ख़ुद प्रकाश की तरफ़ था।

 

चौधरी ने सर को जुंबिश दी और कहा: “तुम्हारा फ़लसफ़ा मैं कभी नहीं समझ सकता। आसान बात को तुम ने मुश्किल बना दिया है। तुम आर्टिस्ट हो और नोटबुक निकाल कर ये भी लिख लो कि आर्टिस्ट अव़्वल दर्जे के बेवक़ूफ़ होते हैं। मुझे बहुत तरस आता है उन पर कमबख़्तों की बेवक़ूफ़ी में भी ख़ुलूस होता है।

 

दुनिया भर के मसले हल करदेंगे पर जब किसी औरत से मुडभीड़ होगी तो जनाब ऐसे चक्कर में फंस जाऐंगे कि एक गज़ दूर खड़ी औरत तक पहुंचने के लिए पिशावर का टिकट लेंगे और वहां पहुंच कर सोचेंगे वो औरत आँखों से ओझल कैसे होगई। चौधरी साहब क़िबला, निकालिये अपनी नोटबुक और ये लिख लीजीए कि आप अव़्वल दर्जे के चुग़द हैं।

 

 

चौधरी ख़ामोश रहा और मुझे एक बार फिर महसूस हुआ कि प्रकाश, चौधरी को आईना बना कर उस में अपनी शक्ल देख रहा है और ख़ुद को गालियां दे रहा है। मैंने उसे कहा।प्रकाश ऐसा लगता है चौधरी के बजाय तुम अपने आप को गालियां दे रहे हो।

 

ख़िलाफ़--तवक़्क़ो उस ने जवाब दिया।तुम बिलकुल ठीक कहते हो, इस लिए कि मैं भी एक आर्टिस्ट हूँ, यानी मैं भी। जब दो और दो चार बनते हैं तो ख़ुश नहीं होता। मैं भी क़िबला चौधरी साहब की तरह अमृतसर के कंपनी बाग़ में औरत से मिल कर फ़रंटीयर मेल से पिशावर जाता हूँ और वहां आँखें मल मल कर सोचता हूँ मेरी महबूबा ग़ायब कहाँ होगई।

 

ये कह कर प्रकाश ख़ूब हंसा। फिर चौधरी से मुख़ातब हुआ।चौधरी साहब क़िबला, हाथ मिलाईए। हम दोनों फिसड्डी घोड़े हैं। इस दौड़ में सिर्फ़ वही कामयाब होगा जिस के ज़हन में सिर्फ़ एक ही चीज़ हो कि उसे दौड़ना है, ये नहीं कि काम और वक़्त का सवाल हल करने बैठ जाये।

 

इतने क़दमों में इतना फ़ासिला तय होता है तो इतने क़दमों में कितना फ़ासिला तय होगा। इश्क़ जोमीटरी है अलजबरा। पस बकवास है। चूँकि बकवास है इस लिए इस में गिरफ़्तार होने वाले को बकवास ही से मदद लेनी चाहिए।चौधरी ने उकताए हुए लहजे में कहा।क्या बकवास करते हो?”

 

तो सुनो!” प्रकाश जम कर बैठ गया।मैं तुम्हें एक सच्चा वाक़िया सुनाता हूँ। मेरा एक दोस्त है, मैं उस का नाम नहीं बताऊंगा। दो बरस हूए वो एक ज़रूरी काम से चंबा गया। दो रोज़ के बाद लोट कर उसे डलहौज़ी चला आना था। इस के फ़ौरन बाद अमृतसर पहुंचना था मगर तीन महीने तक वो लापता रहा। उस ने घर ख़त लिखा मुझे जब वापस आया तो उस की ज़बानी मालूम हुआ कि वो तीन महीने चंबा ही में था। वहां की एक ख़ूबसूरत लड़की से उसे इश्क़ होगया था।

 

चौधरी ने पूछा।नाकाम रहा होगा।प्रकाश के होंटों पर मानी ख़ेज़ मुस्कुराहट पैदा हुई।नहीं, नहीं...... वो कामयाब रहा। ज़िंदगी में उसे एक शानदार तजुर्बा हासिल हुआ। तीन महीने वो चंबा की सर्दीयों में ठिठुरता और उस लड़की से इश्क़ करता रहा। वापस डलहौज़ी आने वाला था कि पहाड़ी की एक पगडंडी पर उस काफ़िर जमाल हसीना से उस की मुडभीड़ हूई। तमाम कायनात सिकुड़ कर उस लड़की में समा गई और वो लड़की फैल कर वालहाना वुसअत इख़्तियार करगई।

 

उस को मोहब्बत होगई थी...... क़िबला चौधरी साहब! सुनीए। पंद्रह दिनों तक मुतवातिर वो ग़रीब अपनी मोहब्बत को चंबा की यख़बस्ता फ़िज़ा में दिल के अंदर दबाये छुपछुप कर दूर से उस लड़की को देखता रहा मगर उस के पास जा कर उस से हम-कलाम होने की हिम्मत कर सका...... हर दिन गुज़रने पर वो सोचता कि दूरी कितनी अच्छी चीज़ है। ऊंची पहाड़ी पर वो बकरीयां चरा रही है।

 

नीचे सड़क पर उस का दिल धड़क रहा है। आँखों के सामने ये शायराना मंज़र लाईए और दाद दीजीए। उस पहाड़ी पर आशिक़--सादिक़ खड़ा है। दूसरी पहाड़ी पर उस की सीमीं बदन महबूबा...... दरमयान में शफ़्फ़ाफ़ पानी का नाला बह रहा है...... सुबहान अल्लाह कैसा दिलकश मंज़र है, चौधरी साहब क़िबला।

 

 

चौधरी ने टोका।बकवास मत करो जो वाक़िया है, उसे बयान करो।प्रकाश मुस्कुराया।तो सुनीए...... पंद्रह दिन तक मेरा दोस्त इश्क़ के ज़बरदस्त हमले के असरात दूर करने में मसरूफ़ रहा और सोचता रहा कि इसे जल्दी वापस चला जाना चाहिए। इन पंद्रह दिनों में उस ने काग़ज़ पैंसिल लेकर तो नहीं लेकिन दिमाग़ ही दिमाग़ में उस लड़की से अपनी मोहब्बत का कई बार जायज़ा लिया।

 

लड़की के जिस्म की हर चीज़ उसे पसंद थी। लेकिन ये सवाल दरपेश था कि उसे हासिल कैसे किया जाये। क्या एक दम बग़ैर किसी तआरुफ़ के वो उस से बातें करना शुरू करदे? बिलकुल नहीं, ये कैसे हो सकता था...... क्यों, हो कैसे नहीं सकता...... मगर फ़र्ज़ कर लिया जाये उस ने मुँह फेर लिया।

 

जवाब दिए बग़ैर अपनी बकरीयों को हाँकती, पास से गुज़र गई...... जल्दबाज़ी कभी बार-आवर नहीं होती...... लेकिन उस से बात किए बग़ैर उसे हासिल कैसे किया जा सकता है? एक तरीक़ा है, वो ये कि उस के दिल में अपनी मोहब्बत पैदा की जाये। उस को अपनी तरफ़ राग़िब किया जाये। हाँ हाँ, ठीक है। लेकिन सवाल ये है राग़िब कैसे किया जाये...... हाथ से, इशारा...... नहीं, बिलकुल पोच है......

 

सौ क़िबला चौधरी साहब! हमारा हीरो इन पंद्रह दिनों में यही सोचता रहा...... सोलहवीं दिन अचानक बाओली पर उस लड़की ने उस की तरफ़ देखा और मुस्कुरा दी...... हमारे हीरो के दिल की बाछें खुल गईं, लेकिन टांगें काँपने लगीं...... आप ने अब टांगों के मुतअल्लिक़ सोचना शुरू किया। लेकिन जब मुस्कुराहट का ख़याल आया तो अपनी टांगें अलग करदीं और उस लड़की की पिंडुलीयों के मुतअल्लिक़ सोचने लगा जो उठी हुई घघरी में से उसे नज़र आई थीं।

 

कितनी सुडौल थीं। लेकिन वो दिन दूर नहीं जब वो उन पर बहुत आहिस्ता आहिस्ता हाथ फेर सकेगा...... पंद्रह दिन और गुज़र गए...... उधर वो मुस्कुरा कर पास से गुज़रती रही। उधर हमारे हीरो साहब जवाबी मुस्कुराहट की रीहरसल करते रहे...... सवा महीना होगया और उन का इश्क़ सिर्फ़ होंटों पर ही मुस्कुराता रहा।

 

आख़िर एक दिन ख़ुद उस लड़की ने मोहर--खामोशी तोड़ी और बड़ी अदा से एक सिगरेट मांगा। आप ने सारी डिबिया हवाले करदी और घर आकर सारी रात कपकपाहट पैदा करने वाले ख़्वाब देखते रहे। दूसरे दिन एक आदमी को डलहौज़ी भेजा और वहां से सिगरेटों के पंद्रह पैकेट मंगवा कर एक छोटे से लड़के के हाथ अपनी महबूबा को भिजवा दिए।

 

जब उस ने अपनी झोली में डाले तो आप के दिल को दूर खड़े बहुत मुसर्रत महसूस हुई। होते होते वो दिन भी आगया। जब दोनों बैठ कर बातें करने लगे। कैसी बातें? क़िबला चौधरी साहब बताईए, हमारा हीरो क्या बातें करता था उस से?”

 

चौधरी ने उस को उकताए हुए लहजे में जवाब दिया।मुझे क्या मालूम।प्रकाश मुस्कुराया।मुझे मालूम है क़िबला चौधरी साहब...... घर से चलते वक़्त वो बातों की एक लंबी चौड़ी फ़हरिस्त तैय्यार करता था। मैं उस से ये कहूंगा, मैं उस से ये कहूंगा जब वो नाले के पास कपड़े धोती होगी तो मैं आहिस्ता आहिस्ता जा कर उस की आँखें मीच लूंगा


फिर उस की बग़लों में गुदगुदी करूंगा लेकिन जब उस के पास पहुंचता और आँखें मीचने और गुदगुदी करने का ख़याल आता तो उसे शर्म आजाती...... क्या बचपना है...... और वो उस से कुछ दूर हट कर बैठ जाता और भेड़ बकरियों की बातें करता रहता...... कई दफ़ा उसे ख़याल आया कब तक ये भेड़ बकरीयां उस की मोहब्बत चरती रहेंगी...... दो महीने से कुछ दिन ऊपर होगए और अभी तक वो उस के हाथ तक नहीं लगा सका।

 

मगर वो सोचता कि हाथ लगाए कैसे, कोई बहाना तो होना चाहिए लेकिन फिर उसे ख़याल आता बहाने से हाथ लगाना बिलकुल बकवास है, लड़की की तरफ़ से उसे ख़ामोश इजाज़त मिलनी चाहिए कि वो उस के बदन के जिस हिस्से को भी चाहे हाथ लगा सकता है। अब ख़ामोश इजाज़त का सवाल आजाता...... उसे कैसे पता चल सकता है उस ने ख़ामोश इजाज़त दे दी है...... क़िबला चौधरी साहब, इस का खोज लगाते लगाते पंद्रह दिन और गुज़र गए।

 

प्रकाश ने सिगरेट सुलगाया और मुँह से धुआँ निकालते हुए कहने लगा।इस दौरान में वो काफ़ी घुल मिल गए थे। लेकिन इस का असर हमारे हीरो के हक़ में बुरा हुआ। दौरान--गुफ़्तगु में उस ने लड़की से अपने ऊंचे ख़ानदान का कई बार ज़िक्र किया था, अपने ओबाश दोस्तों पर कई बार लानतें भेजी थीं जो पहाड़ी देहातों में जा कर ग़रीब लड़कीयों को ख़राब करते थे।

 

कभी दबी ज़बान में, कभी बलंद बाँग अपनी तारीफ़ भी की थी। अब वो कैसे उस लड़की पर अपनी शहवानी ख़्वाहिश ज़ाहिर करता। ज़ाहिर था कि मुआमला बहुत टेढ़ा और पेचदार होगया है। मगर उस का जज़्ब--इशक़ सलामत था इस लिए उसे उम्मीद थी कि एक रोज़ ख़ुद लड़की ही अपना आप थाली में डाल कर उस के हवाले करदेगी......

 

इस उम्मीद में चुनांचे कुछ दिन और बीत गए एक रोज़ कपड़े धोते धोते लड़की ने जब कि हाथ साबुन से भरे हुए थे इस से कहा।तुम्हारी माचिस ख़त्म होगई है मेरी जेब से निकाल लो...... ” ये जेब ऐन उस की छाती के उभार के ऊपर थी। हमारा हीरो झेंप गया।

 

लड़की ने कहा।निकाल लोना...... थोड़ी सी हिम्मत करके उस ने अपना काँपता हुआ हाथ बढ़ाया और दो उंगलियां बड़ी एहतियात से उस की जेब में डालीं। माचिस बहुत नीचे थी। घबराया। कहीं और जा टकराईं। चुनांचे बाहर निकाल लीं और अपनी ख़ाली माचिस से तीली निकाल कर सिगरेट सुलगाया और लड़की से कहा तुम्हारी जेब से माचिस फिर कभी निकालूंगा।

 

ये सुन कर लड़की ने शरीर शरीर नज़रों से उस की तरफ़ देखा और मुस्कुरा दी। हमारे हीरो ने आधा मैदान मार लिया। दूसरा आधा मारने के लिए वो स्कीमें सोचने लगा। एक रोज़ सुबह सवेरे नाले के इस तरफ़ बैठा, दूसरी तरफ़ नदी पर उस लड़की को बकरीयां चराते देख रहा था और उस की उभरी हुई जेब के माल पर ग़ौर कररहा था कि नीचे सड़क पर बाओली के पास एक मोटर लारी रुकी।

 

सिख ड्राईवर ने बाहर निकल कर पानी पिया और उस लड़की की तरफ़ देखा। मेरे दिल में एक जलन सी पैदा हुई। बाओली