Friday, 30 September 2022

Fairytale of Spanish flamenco dancer “Anita Delgado”: Nightclub of Madrid to Kapurthala's Royalty- Whom Maharaja Jagatjit Singh Married In 1908.

A Fairytale enduring legend of a Spanish flamenco dancer who became an Indian queen.

Among the many European women, who married Indian Maharajas, the most famous was Anita Delgado Briones. She was a Spanish flamenco dancer and singer from Andalusia who achieved fame for having married the Indian Maharaja of Kapurthala, thus becoming a Maharani of Kapurthala.

Jagatjit Singh, Maharaja of Kapurthala, saw Anita Delgado in night club performance when he visited Madrid in 1906 and fell in love with her.

 

Beguiling story of Delgado, a poor Spanish flamenco dancer who became an Indian royal in the first half of the 20th century. Maharaja of Kapurthala saw her and fell in love with her: A simple girl became a Maharani."

Jagatjit Singh (1872–1949) was an already-married 34-year-old king with a passion for all things French when he visited Madrid for a royal wedding in 1906. Mesmerized after watching a nightclub performance featuring the then 16-year-old Delgado, he pursued her and had her educated in Paris and Brussels.

They got married in 1907 and the following year he triumphantly returned to the small Punjabi kingdom of Kapurthala with a new wife—his fifth and allegedly his favourite. A Sikh ceremony followed and Anita Delgado became Maharani Prem Kaur.

 

She was suddenly thrust from an ordinary existence into an orbit of wealth, power and status in an exotic foreign land.

 

Among the many European women, who married Indian Maharajas, the most famous was Anita Delgado Briones. She was a Spanish flamenco dancer and singer from Andalusia who achieved fame for having married the Indian Maharaja of Kapurthala, thus becoming a Maharani of Kapurthala.

 

Anita Delgado Briones was born in 1890, in the small town of Malaga in southern Spain. Her parents ran a small café – La Castana, which also doubled up as a gambling den. The family was forced to migrate to Madrid, in search of livelihood.

 

The father failed to find any work and the family was hence going through a bad financial phase. It was during this time that Anita and her sister Victoria began to take dance lessons from a neighbour who taught for free.

The sisters began to dance to raise money for the family.In May, 1906, when Anita and her sister performed a curtain raiser act at the Kursaal Fronton, a modern nightclub in Madrid, things took a turn. The nightclub was frequented by the well heeled and crème de la crème.

 

The Maharaja Sir Jagatjit Singh Bahadur of Kapurthala who was there for the marriage of King Alfonso XIII of Spain in Madrid, watched her performance. The Maharaja mesmerized by her beauty, confessed his love for her on the morning after the performance.

 

He attempted to court her, formally too, through his secretary, but his approaches were rejected, and he left after the bombing of the royal couple (May 31, 1906). Later, however, her friends Romero de Torres, Ramón María del Valle-Inclán and Pastora Imperio convinced her to answer his messages and meet him in Paris.

 

Anita was packed off to Paris for training and grooming, to be able to wear the coveted crown. The Maharaja had her educated (including in French) and married her on 28 January 1908.

In Kapurthala, she married according to Sikh rites and took the name Prem Kaur. She made something of a splash in Indian high society, but was devastated to learn on her arrival that she was the maharaja's fifth wife.

 

She describes how four maids, each with a different function, formed her "walking bathroom". Her liberal-minded, Westernised husband allowed her considerable freedom of action, allowing her to live in her own quarters, outside the harem, but the British imperial authorities never recognised her as queen.

After marriage she changed her name to Maharani Prem Kumari. The couple later travelled in Europe and India, and she wrote a book about this time called "Impressions De Mis Viajes A Las Indias".

She also gave the Maharaja a son, Maharaj Kumar Ajit Singh, born on 26 April 1908, who was educated at Cambridge University and at the Military Academy, Dehra Dun. Assistant to the Indian Trade Commissioner in Argentina, he died in 1982.

 

Like all happy stories come to an end, she and The Maharaja fell apart as a result of her alleged extramarital affairs, including her affair with a son of the Maharaja from another wife.

 

After 18 years of marriage, Anita and the Maharaja divorced soon after. They separated and Anita stayed in Paris with her son. She died on 7 July 1962 in Madrid.

 

Delgado retained her Indo-Punjabi nationality, a life pension, her title as maharani, and all the gifts and jewels she had received during 18 years of marriage. In exchange, she was obliged to leave India and never remarry.

She returned to Europe, and lived in Malaga, Biarritz, Deauville and Paris, enjoying the company of her secretary, Gines Rodriguez de Segura, in a relationship she kept secret, and fearing the pension that supported them both in luxury would be stopped, until her death in Madrid in 1962.

Many of her possessions, including millions of pounds worth of jewels, were sent from India in a separate ship that sank in the Mediterranean. The maharaja's heirs are still trying to recover the treasure.

She died on 7 July 1962 in Madrid.

The End

Disclaimer–Blogger has prepared this short write up with help of materials and images available on net/ Wikipedia. Images on this blog are posted to make the text interesting.The materials and images are the copy right of original writers. The copyright of these materials are with the respective owners.Blogger is thankful to original writers.

 






















































Friday, 23 September 2022

Sun never stopped setting for a human except for Yusha ibn Nun (A.S) on the evening he invaded the Bayt al-Maqdis

Yusha was the great grandson of Prophet Yusuf (AS). His full name was Yusha bin Nun bin Afraeem bin Yusuf. Although he is not mentioned by name in the Holy Quran there are references made to him in two places. He is known as Joshua in the Bible.

Joshua commanding Sun to stand still upon Gibeon (By John Martin--Wikipedia)

Yusha bin Nun was one of prophets sent to the Children of Israel after Prophet Musa, May peace and blessings of Allah be upon them both. Prophet Yusha was the one responsible for leading an army into Jerusalem and conquering it with the Children of Israel.

Joshua was with Moses when he descended from the mountain, heard the Israelites' celebrations around the Golden Calf, and broke the tablets bearing the words of the commandments.

 

After the Bani Israil fled bondage in Egypt and wandered the desert for 40 years Musa died close to Bayt al-Maqdis, often referred to as ‘The Promised Land’. Yusha took over and led the Bani Israil over the River Jordan and into the surroundings of Jericho (also known locally as Ariha).

Moses with Messengers from Canaan (WIKIPEDIA)

When Prophet Musa commanded the Children of Israel to go into Jerusalem to claim it, they refused because they feared its inhabitants, who were very strong people. They refused to fight them but Yusha was one of the people who tried to persuade them into going into battle with the inhabitants.

 

Due to their disobedience, Allah forbade them to be able to enter Jerusalem and they were made to wander in the desert for 40 years as mentioned in the Qur’an in verses 5:23-26.

Israelites crossing River Jordan

One of the wisdoms behind their wandering is said to be that Allah did not want anyone who had worshiped the calf to enter Jerusalem.

 

Therefore, after 40 years, that whole generation had passed away and the new generation was brought up under the direct teachings of Musa, Haroon, and Yusha.

 

It was this new generation under the leadership of Yusha that was allowed to enter Jerusalem with a victory.

 

It was a splendid city with large palaces. He laid siege over it for six months and then with a final push, raising the takbeer, he led his army in and conquered it. 

It is said that when they were about to take the city of Jerusalem it was on a Friday at Asr time. The sunset was close approaching which would subject them to the observance of the Sabbath (on Saturday), meaning that they would have had to cease fighting.

 

Yusha addressed the sun that it was under a command while he was under another command and he prayed to Allah, “O Allah, hold it back from setting!” It was stopped till Allah made him victorious.

Tomb of Yusha Ibne Nun (Jordon)

A hadith has been narrated from Abu Hurairah that the Prophet () said, ”Surely, the sun has never been stopped from setting down for a human being except for Yusha on the evening he invaded the Bayt al-Maqdis.”


The Banu Isra’it lived in the Bayt Al-Maqdis for some time and their Prophet Yusha’ (AS) taught them the Torah and ruled according to it. He lived for a hundred and twenty seven years which means he lived twenty seven years after Musa (A.S).

The END

Disclaimer–Blogger has prepared this short write up with help of materials and images available on net (Wikipedia). Images on this blog are posted to make the text interesting.The materials and images are the copy right of original writers. The copyright of these materials are with the respective owners.Blogger is thankful to original writers. 





























Sunday, 18 September 2022

एक थी विमला (कमलेश्वर):-- विमला, कुन्ती, लज्जा, सुनीता शायद लाखों लड़कियाँ जो किसी बहुत खूबसूरत दिन के लिए अपनी सब मुसकराहटें सँजोकर रखना चाहती है

 पहला मकानयानी विमला का घर

इस घर की ओर हर नौजवान की आँखें उठती हैं। घर के अन्दर चहारदीवारी है और उसके बाद है पटरी। फिर सड़क है, जिसे रोहतक रोड के नाम से जाना जाता है। अगर दिल्ली बस सर्विस की भाषा में कहें, तो इसका नाम हैरूट नम्बर सत्ताईस।

 

सत्ताईस नम्बर की बस यहीं से गुज़रती है और विमला के घर के ठीक सामने तो नही; बायीं ओर कुछ हटकर बस-स्टॉप है। बस-स्टॉप पर बहुत चहल-पहल रहती है। वहाँ खड़े होने वाले लोग और नौजवान उस सामने वाले घर को आसानी से देख सकते हैं। यह मकान विमला का है, यानी विमला इसमें रहती है, वैसे बाहर खम्भे पर उसके बाप दीवानचन्द के नाम की तख्ती लटक रही है।

विमला की तरफ़ सभी की आंखें हैं। ख़ास तौर से उन नौजवानों और युवक दुकानदारों की, जो वहीं आस-पास रहते हैं। विमला गर्ल्स पब्लिक कॉलेज में पढ़ने जाती है। देखने में सुन्दर है और उसकी उम्र यही क़रीब बीस साल की है। जब वह घर के पास बस-स्टॉप पर उतरती है, तो उसके साथ नौजवानों का एक हुजूम भी उतरता है: पर वह किसी की परवाह नहीं करती और सीधी अपने घर में चली जाती है।

 

उसके वापस आने का वक़्त क़रीब दो बजे होता है। उस वक़्त बस-स्टॉप के पास सामने की दूकानों के नौजवान मालिक भी जमा हो जाते हैं। सब आँखें विमला को देखती हैं, उसका पीछा करती हैं, पर वह अपने में मगन सड़क पार कर जाती है।

 

लोगों का कहना है कि उसने कभी नज़र उठाकर किसी को नहीं देखा। एक दिन बस से उतरते हुए उसकी साड़ी चप्पल में उलझ गयी थी और झटके से सब किताबें और कापियाँ बिखर गयी थीं। इन्तज़ार में खड़ें नौजवानों ने फ़ौरन एक-एक किताब उठाकर उसके हाथों में थमा दी थी और उसकी नज़रों से कुछ पाने की तमन्ना की थी।

 

 खासतौर से एक नौजवान ने बड़ी सज्जनता से आगे बढ़कर पूछा था, ‘‘आपके चोट तो नहीं आयी?’’

जी, नहींविमला ने बहुत शालीनता से कहा था और अपनी किताबें लेकर चली गयी थी।

 

दूसरे दिन वही नौजवान खासतौर से विमला के सामने पड़ने के लिए एक बजे से बसस्टॉप पर खड़ा था। आखिर एक बस से विमला उतरीपहचान को और गहरा बनाने के लिए उस नौजवान ने बढ़कर उससे बात करनी चाही, पर विमला चुपचाप सकुचाती सड़क पार कर गयी।

 

बहुत दिनों से यही हो रहा है। पर विमला है कि उसमें जैसे कोई ज्वार ही नहीं उठता। अगर उठता भी है, तो वह बहुत शालीनता और सफ़ाई से उसे दबा जाती है। किसी ने भी उसे अनजान आदमियों के साथ आते हुए नहीं देखा, बात करते हुए नहीं देखा।

 

विमला का बाप बहुत पैसे वाला भी नहीं। वह किसी प्राइवेट फ़र्म में काम करता है और अपने घर का भार उठाये उम्र काटता जा रहा है। हाँ, विमला को यह अहसास हर वक़्त रहता है कि उसका बाप है, और वह बहुत समझदार मेहनती आदमी है।

 

अपने बाप के संघर्ष को वह जानती है, घर की ख़स्ता हालत भी उससे छिपी नहीं है, पर वह यह भी जानती है कि बाप के रहते उसे कोई दुःख नहीं हो सकता। पढ़ाई ख़त्म करने के बाद वह कहीं नौकरी करेगी, छोटे भाइयों को पढ़ायेगी और अगर कोई अच्छा-सा नौजवान मिल गया तो बाद में उससे शादी कर लेगी।

 

इस पहले मकान के आस-पास रहने वाले सभी लोगों की यह पक्की राय है कि विमला एक निहायत और सुसंस्कृत लड़की है। उसकी ज़बानों पर सिर्फ़ उसकी तारीफ़ है।

 

विमला के बाप दीवानचन्द का कहना है कि वे सिर्फ़ विमला की पढ़ाई खत्म होने का इन्तज़ार कर रहे हैं। जिस दिन उसने बी.. पास किया, वे किसी बहुत अच्छे नौजवान से उसकी शादी कर देंगे। अगर विमला कहीं खुद शादी करना चाहती हैं, तो भी उन्हें कोई इनकार होगा, शर्त एक ही है कि लड़का अच्छे घराने का और अच्छी नौकरी या कारबार में लगा हुआ होना चाहिए।

 

विमला के घर की तरह शायद हज़ारों घर हैं और उसकी तरह की लाखों लड़कियाँ भी है। उतनी ही सुन्दर, सुशील और समझदार। हर लड़की पढ़ रही है और अपने घर के खस्ता हाल से परिचित है, अपने बाप-भाइयों के संघर्ष की जानकारी उसे है।

 

हर लड़की अपने घर को और अच्छा बनाना चाहती है। हर लड़की यह भी चाहती है कि कोई उसकी तरफ़ उँगली उठा सके। सब लोग उसके बारे में बहुत अच्छी-अच्छी बातें सोचें। उसकी खूबसूरती को सराहें और गुणों की प्रशंसा करें। वह अपने घर की इज़्ज़त का जीता-जागता नमूना बने और बाप-भाइयों की नाक उसकी वजह से ऊँची रहे।

 

शादी के बाद सब जानने वालों को यह सन्तोष हो कि उसका पति बहुत इज़्ज़तदार, ओहदेदार, और शानदार आदमी है, और वह शादी के बाद भी अपने भाई-बहनों की प्यारी बनी रहे, उनकी मदद कर सके और घर में गौरव प्राप्त करे।

 

पहले मकान में रहने वाली विमला भी यही चाहती थी और जो वह चाहती थी, वह सब उसके सामने पूरा भी होता जा रहा था उम्मीद भी यही है कि उसके सब सपने साकार हो जायेंगे, क्योंकि जो कुछ वह चाहती है, वह पा लेना बहुत मुश्किल भी नहीं है।

और उस पहले मकानयानी विमला के घर यह कहानी यहीं खत्म हो जाती है, क्योंकि अभी इससे आगे कुछ हुआ नहीं है। इस तारीख तक घटनाएँ यहीं तक पहुँची हैं।

 

इसलिए यह बात यहीं पर खत्म होती है।

परमात्मा करे सबको विमला जैसी सुशील और समझदार लड़की मिले और किसी की नाक नीची हो! क्योंकि दुनिया यही चाहती है।

 

दूसरा मकानयानी कुन्ती का घर

विमला के घर से यह मकान काफ़ी दूरी पर है। यों देखने पर विमला और कुन्ती का कोई सम्बन्ध भी नहीं है। पर जाने क्यों उसमें विमला की झलक-सी दिखाई पड़ती है। विमला कुन्ती को नहीं जानती और कुन्ती उसे। यह भी ज़रूरी नहीं है कि जो लोग विमला को जानते हैं, वे कुन्ती को जानते ही हों।

 

बहुत-से ऐसे लोग हैं जो कुन्ती को क़तई नहीं जानते। इत्तफ़ाक़ की बात यह है कि कुन्ती का मकान भी इसी सड़क पर है। मकान क्या, एक कमरा कह लीजिए। कई साल पहले पूरा मकान लाल का हाथ तंग होता गया और मकान के कमरे किराये पर चढ़ते गये।

 

उनके मकान के फ़ाटक पर भी पहले उनके नाम की तख्ती रहती थी, पर फिर उस पर बाक़ी किरायेदारों के नामों की तख्तियाँ लटक गयीं और मकान में हिस्सेदारी के अनुपात का सम्मान करते हुए फ़ाटक पर औरों का हक़ हो गया। मनोहरलाल की तख्ती वहाँ से उठकर कमरे की दीवार पर चली गयी।

 

जिस वक़्त वह तख्ती कमरे की दीवार पर पहुँची, उस वक़्त मनोहर-लाल की हालत बहुत खस्ता थी। नौकरी करने के बावजूद खर्चे का पूरा नहीं पड़ता था। क़र्ज़ा भी सिर पर चढ़ता जा रहा था। कुन्ती से बड़ा एक लड़का था तो ज़रूर, पर वह शादी के बाद अलग हो गया था।

 

उसने सभी सम्बन्ध तोड़ लिये थे। घर से उसका कोई वास्ता नहीं रह गया था। अब घर के पाँच बच्चों में सबसे बड़ी कुन्ती ही है। एक छोटी बहन और तीन भाई और है। एक दिन दिल का दौरा पड़ने से मनोहरलाल की मौत हो गयी। उस वक़्त कुन्ती इण्टर में पढ़ रही थी। मनोहरलाल के मरने के बाद घर की देखभाल और ख़र्चे का पूरा भार कुन्ती पर ही गया था।

 

दीवार पर लगी हुईं तख़्ती उतार कर अपनी पुरानी चीजों वाले बक्से में आदर से रख दी गयी थी, क्योंकि जब-जब कुन्ती बाहर से आती थी, वह तख्ती देखकर उसकी आँखें भर आती थीं।

 

मरने से पहले मनोहरलाल को यही सन्तोष था कि कुन्ती जैसी सुशील समझदार लड़की कम से कम इस ज़माने में मिलना बहुत मुश्किल थी। वे यही सोचते थे कि कुन्ती के बी. . पास करते ही उसकी शादी किसी बहुत अच्छे नौजवान से कर देंगे।

 

ऐसे नौजवान से, जिसका ख़ान-दान भी ऊँचा हो और जो ख़ुद ऊँची जगह पर हो। अगर कुन्ती चाहेगी, तो वे उसकी पसन्द के लड़के के लिए तैयार हो जायेंगे, क्योंकि उन्हें सिर्फ़ कुन्ती की खुशी चाहिए थी

 

बहरलाल उन्होंने जाने क्या-क्या सोचा होगा और कुन्ती ने क्या-क्या मन में तय किया होगा।

 

जहाँ से हम उसे जानते हैं, वहाँ से सिर्फ़ इतना ही बता सकते हैं कि वह इस वक़्त एक नर्सरी स्कूल में मास्टरनी है, जहाँ से उसे सौ रुपये तन-ख्वाह के रूप में मिलते हैं, जिससे छोटे भाई-बहनों की पढ़ाई का पूरा ख़र्चा भी नहीं निकलता। नर्सरी स्कूल से लौटने पर वह किसी जगह ट्यूशन के लिए भी जाती है।

 

वह संघर्षों के बीच से गुजर रही है और अपने घर की इज़्ज़त को बचाये रखने का भरसक प्रयास कर रही है। जैसे-जैसे वह सारा सामान मुहैया करती है। चींटी की तरह हर वक़्त चुपचाप काम और प्रयास में लगी रहती है।

 

उसी के घर के पास एक सर्राफ़े की दूकान है और खराद का काम करने वाले सरदार का कारखाना। असल में वह खराद का कारख़ाना भी उसी सर्राफ़े का है। उसमें काम करने वाला सरदार उसका नौकर है।

 

उस कारखाने में तमाम पुरानी चीज़ें भरी हुई हैं। अण्ट-सण्ट तरीक़े से बोरे भरे हुए हैं, जिनमें पुराना सामान है। सर्राफ़े की यह दूकान ग़रीबों को बहुत सहारा देती है। पिछले पाँच बरस से कुन्ती अपनी परिस्थितियों से लड़ती रही है, लेकिन कैसेयह शायद किसी को नहीं मालूम।

 

बलवन्तराय सर्राफ़ की दूकान में शीशे की अलमारियाँ हैं, जिनमें चाँदी-काँसे का ज़ेवर सजा हुआ है। एक सेफ़ दीवार में गड़ी हुई है, जिसमें उसके कहने के मुताबिक सोने का सामान और कीमती पत्थर-मोती वग़ैरह बन्द है।

बलवन्तराय है तो सर्राफ़ पर उसके कितने कारोबार हैं, इसका ठीक-ठीक पता किसी को नहीं है। पुराना सामान भी खरीदता है और नये का व्यापार भी करता है। वह नये-से-नये फ़ैशन के कपड़े पहनता है, पर पेट ज़्यादा निकला होने के कारण हर कपड़ा उसके ऊपर बहुत बेडौल लगता है। वह लोगों की मुसीबत-परेशानी में काम आता है।

 

इस दूसरे मकानयानी कुन्ती के घर से बस-स्टॉप ज़रा दूर पर है। वहाँ से वह पैदल घर तक आती है। कुन्ती की उम्र भी क़रीब बीस-बाईस साल है और देखने में वह भी बहुत सुन्दर और सुडौल है। बलवन्तराय की दूकान और खराद के कारखाने के सामने से वह रोज गुज़रती है।

 

बलवन्तराय उसे रोज़ देखता है, बल्कि वह इसीलिए खाना खाने देर से जाता है कि ज़रा एक नज़र कुन्ती को देख ले। लेकिन थीड़ी-सी जान-पहचान के बावजूद कुन्ती तो उधर देखती ही है उसका खयाल ही करती है।

 

बलवन्तराय और कुन्ती की जान-पहचान सिर्फ़ एक दूकानदार और ग्राहक की जान-पहचान की तरह है। एक बार जब उसे पैसों की बहुत सख्त ज़रूरत पड़ी थी, तो वह माँ की सोने की माला बेचने के लिए दबे पाँव उसकी दूकान तक पहुँची थी। बलवन्तराय ने एक कुशल दूकानदार की अतिरिक्त सज्जनता और नम्रता की तरफ़ ध्यान देने की कोई ज़रूरत उसने नहीं समझी थी।

 

माला खरीद लेने के बाद बलवन्तराय उस एक दिन की जान-पहचान को और गहरा बनाने के लिए हर तरह की कोशिशों में लगा हुआ था। कुन्ती के लौटने के समय वह उँगलियों में क़ीमती मोतियों की चार अँगूठियाँ पहनकर दूकान के बाहर पटरी पर खड़ा होता था। कुन्ती हमेशा उसी पटरी से सिर झुकाये गुज़र जाती थी।

 

कुछ ही दिन बाद कुन्ती फिर शाम के धुँधलके में उसकी दूकान पर आयी थी और माँ की पुरानी क़ीमती साड़ी की सीने के काम वाली किनारी और पल्लू के फटे हुए टुकड़े बेच गयी थी। जान-पहचान फिर भी वहीं रुकी हुई थी। बलन्तराय की दुकान और कारखाने में कुन्ती के घर की बहुत-सी चीज़ें पहुँच चुकी थीं।

 

कुछ पुराने भारी-भारी बरतनों की ख़राद चढ़ाकर और नया बनाकर वह बेच भी चुका था। गिलट और पीतल के गुलदस्ते भी वह ख़रीद चुका था, पर जो वह चाहता था, वह नहीं हुआ था। कुन्ती से उसने हर बार बातें की थीं, पर उसकी बातों में कहीं कुछ भी ऐसा नहीं था कि बलवन्तराय कोई मतलब निकाल सकता।

 

कुन्ती से घर की तमाम पुरानी और इस्तेमाल की हुई चीज़ें खरीदने के बाद भी दूरी उतनी ही बनी हुई थी। वह हर बार कोई--कोई शिष्ट मज़ाक़ करता और चाहता कि कुन्ती कम-से-कम एक बार मुसकराकर उसकी बात का जवाब तो दे दे, पर कुन्ती विमला की ही तरह कभी मुसकरायी नहीं। उसने हमेशा सीधी-सीधी बातें कीं, चीज दी और कम-ज्यादा जो भी पैसा मिला, लेकर चली गयी।

 

बलवन्तराय ने हमेशा यही ज़ाहिर किया कि वह सिर्फ़ क़ीमती से ज़्यादा पैसा ही देता है, बल्कि उन चीज़ों को भी ख़रीद लेता है, जो उसके काम की नहीं हैं, जैसे चश्मे का पीतल का पुराना फ्रेम, पूजा के छोटे-छोटे बरतन और पुरानी टूटी हुई पतीलियाँ।

 

कुन्ती भी मन-ही-मन उसकी बहुत कृतज्ञ थी। लेकिन मुसकराकर बात करने का सवाल कभी नहीं उठा था, क्योंकि ज़िन्दगी के भारू होते जाने के बावजूद तब तक वह गाड़ी खींच रही थी। कुछ ऐसी आशाएँ बाक़ी थीं, जिन्हें वह सँजोकर रखना चाहती थी और कुछ ऐसे सपने भी शेष थे, जिनके साकार होने की उम्मीद उसे थी।

 

अभी खुशियों के कुछ अहसास बाक़ी थे, जो उसे मुसकराने नहीं देते थे। वह अपनी मुसकराहटों को बचाकर रखना चाहती थीउस दिन के लिए, जबकि वे खुशियाँ वापस आयेंगी। उसके छोटे-छोटे भाई बड़े होंगे और घर का नक़्शा बदलेगा।

 

आखिर वह दिन ही गया, जबकि उसकी मुसकराहट होंठों पर गयी। वह दिन बेहद खुशनुमा था। बरसात का मौसम था। आसमान में काले-काले बादल छाये हुए थे। भीगी-भीगी हवा चल रही थी। दूर से आती हवाओं के साथ मेंहदी के फूलों की महक रही थी। रह-रहकर बूँदीबाँदी हो जाती थी। पेड़ घुलकर नये हो गये थे। सड़कें साफ़ हो गयी थीं।

 

उस वक़्त शाम के सात बज रहे थे। सूरज डूब चुका था, पर दिन अभी कुछ-कुछ बाक़ी था। कुन्ती के घर में अजीब-सा सन्नाटा छाया हुआ था। माँ को दो दिन पहले बेहोशी का दौरा पड़ा था। घर में इलाज कराने के लिए पाई नहीं थी, इसलिए वह ज़नाने अस्पताल में पड़ी हुई थी। उसे देखने जाने और तीमारदारी में सब पैसे ख़त्म हो चुके थे। तीनों भाई और अकेली बहन समझदार और नेक बच्चों की तरह चुपचाप अधपेट खाये बैठे हुए थे। किसी के चेहरे पर कोई शिकायत नहीं थी।

 

कुन्ती एक तरफ़ बैठी हुई बारी-बारी से सब चीज़ों पर निगाह डाल रही थी। लेकिन अब घर में कोई भी ऐसा सामान नहीं था, जो बेचा जा सकें या बिक सके। तसवीरों के लकड़ी के फ्रेम बिक नहीं सकते, तवा और आखिरी पतीली बेची नहीं जा सकती। और दो-दो चार-चार आने में दो-तीन चीज़ें बिक भी जायें, तो कुछ भी हासिल नहीं होता था।

 

मौसम बहुत सुहावना था। हर तरफ़ से जैसे खुशियाँ फूट पड़ रही थींपेड़ों पर अजीब-सी ताजगी छायी हुई थी। और ऐसे ख़ुशनुमा वक़्त में कुन्ती की आँखें रह-रहकर भर आती थीं। दिल में अजीब-सी हूक उठती। भाई-बहनों के मासूम चेहरों की तरफ़ जब वह देखती थी तो मन बैठने लगता था और आँसू नहीं थमते थे।

 

आखिर वह कमरे के बाहर आकर खड़ी हो गयी। कुछ देर पसोपेश में रही, फिर भीतर जाकर उसने कपड़े बदले, अपने बाल ठीक किये और छोटी बहन को समझाकर कि वह अभी रही है, वह बाहर निकल आयी। उसकी चाल में कोई संकोच नहीं था। मन अजीब-सी मजबूरी की अनुभूति और हिचक से भरा हुआ था।

 

और वह हमेशा की तरह फिर बलवन्तराय की दूकान पर खड़ी थी। शाम गहरी हो गयी थी। आज वह दिन गया था, जब उसका मन बहुत भारी था और दुःखों के बोझ से हलकी-सी मुसकराहट होंठों पर उतर आयी थी।

 

बलवन्तराय ने वह मुसकराहट देखी तो सहसा विश्वास नहीं कर पाया। हकलाते हुए बोला, ‘‘आइए, आइएवहाँ क्यों रुक गयीं?’’

 

कुन्ती भीतर चली गयी। एकाध ग्राहक और बैठे हुए थे। कुन्ती हमेशा की तरह बेंच पर बैठ गयी। बलवन्तराय ने ग्राहकों को जल्दी से निपटाकर बिदा किया और कुन्ती को देखा, तो उसे सिर्फ़ वह मुसकराहट ही नजर आयी। इतने दिनों का परिचय सहज सम्मान का रूप ले चुका था। बलवन्तराय ने धीरे से कहा, ‘‘कहिए, क्या सेवा करूँ?’’

 

बहुत सकुचाते और हिचकते हुए कुन्ती ने मुसकराने की फिर कोशिश की। उसके होंठों पर मुसकराहट की लकीर खिच गयी और वह नीची निगाह करके बोली, ‘‘आज असल में हमें बीस रुपये की सख्त जरूरत थी, चीज़ तो कोई ला नहीं पायीवह बात यह थी कि…’’

 

बलवन्तराय ने और कुछ जानना जरूरी भी नहीं समझा। कुन्ती के घर की हालत का पता उसे था और उसके मन में मदद करने की बात भी थी। उसने फ़ौरन बीस रुपये आगे बढ़ा दिये, तो बहुत संकोच से लेते हुए कुन्ती ने कहा, ‘‘पहली तारीख को दे जाऊँगी…”

 

कोई बात नहीं, जायेंगे…” बलवन्त ने कहा, तो वह जैसे उबर आयी थी। मन का बोझ भी कुछ हलका-सा लग रहा था। वह हमेशा की तरह ही चुपचाप बाहर निकल आयी, पर आज उसने आगे बढ़ने से पहले बलवन्तराय के चेहरे पर कुछ भाव पढ़ने की कोशिश करनी चाही। वह हमेशा की तरह ही शालीनता से मुसकरा रहा था। कुन्ती भी धीरे से मुसकरायी और हमेशा की तरह ही चुपचाप पटरी पर चल दी।

 

कुन्ती के घर की तरह शायद हज़ारों घर हैं और उसकी तरह की लाखों लड़कियाँ हैं, जो आज अपने पैरों पर खड़े होकर कुछ बनना चाहती है और अपने घर की खुशियाँ वापस लाना चाहती हैं। पर लड़की किसी बहुत खूबसूरत दिन के लिए अपनी सब मुसकराहटें सँजोकर रखना चाहती है।

 

दूसरे मकान में रहने वाली कुन्ती भी यही चाहती थी और जो वह चाहती थी, उसके मिलने का विश्वास उसे शायद अभी तक हैआज शाम तक था

 

और उस मकानयानी कुन्ती के घर की यह कहानी हीं ख़त्म हो जाती है, क्योंकि अभी इससे आगे कुछ हुआ नहीं है। इस तारीख तक पहनाएँ यहीं तक पहुँची हैं।

 

इसलिए यह बात भी यहीं पर ख़त्म होती है।

 

परमात्मा करे ऐसा खुशनुमा दिन कभी आये और किसी को मुसकराना पड़े! क्योंकि दुनिया यही चाहती है।

 

तीसरा मकानयानी लज्जा का घर

लज्जा का घर ठीक उस चौराहे पर है, जहाँ से बाग़ के लिए रास्ता कटता है। उसे घर नहीं फ़्लैट कहा जाता है। विकला या कुन्ती से लज्जावती का कोई सम्बन्ध नहीं है। फिर भी एक सम्बन्ध-सा दिखाई पड़ता है। उन दोनों को यह भी नहीं पता कि जहाँ से बाग़ के लिए रास्ता कटता है वहाँ कोई ऐसा शानदार फ़्लैट भी है और वहाँ लज्जा नाम की कोई लड़की रहती है।

 

लज्जा भी कुन्ती और विमला की तरह खूबसूरत हैं, लेकिन उसके रहन-सहन ने उसे कुछ ज़्यादा ही ख़ूबसूरत बना रखा है। उसके घर में रहने वाले और लोगों के कपड़ों, जूतों और बालों में चमक तो है, पर चेहरों पर धन की ललाई नहीं है। ऐसा लगता है जैसे इन लोगों के दिन फिर गये हैं और ये एकाएक मालदार हो गये हैं।

 

लज्जा को जब भी लोगों ने देखा हैमुसकराते हुए ही देखा है। अपनी कोई कार उसके पास नहीं है, पर वह हमेशा या तो किसी कार से जाती है या टैक्सी से। ठीक तो मालूम नहीं, पर सुना यही है कि वह किसी बड़े होटल में रिसेप्शनिस्ट है। कभी-कभी होटल का सामान लाने-ले जानेवाला वैशन भी उसे काफ़ी रात गये घर छोड़ जाता है।

 

लज्जा को यह संतोष है कि आखिर उसने संघर्ष में हार नहीं मानी और उन दिनों को उसने जीत लिया, जो बहुत ही दुःखदायी और कष्टप्रद रहे हैं। किसी तरह वह परेशानियों के उस जंजाल से उबर आयी है, जो आये दिन उसे घेरे रहती थीं। अपने पिछले चार-पाँच वर्षों के जीवन पर जब वह निगाह डालती है, तो उसे लगता है, जैसे वह एक भयंकर जंगल से बाहर गयी है और अब तमाम रास्ते सामने खुले पड़े हैं।

 

लोग उसे बहुत शक की निगाहों से देखते हैं। उसके फ़्लैट के नीचे रहने वाला ब्रोकर बड़े मज़े ले-लेकर उसकी कहानियाँ सुनाता है–‘‘एक रात तो यह लड़की दो बजे आयी। बड़ी आलीशान गाड़ी थी।और यहीयहीं भाई जानसीढ़ियों वाली जगह में उस आदमी ने इसे प्यार किया और गाड़ी लेकर चला गया।

यह यहीं बाहर खड़ी बहुत देर तक जाती हुई गाड़ी को देखती रही, फिर लड़खड़ाती हुई ऊपर चली गयी। बहुत देर तक इसने घण्टी बजायी, तब दरवाज़ा खुला और रास्ते में ही इस लड़की ने चीखना-चिल्लाना शुरू कर दिया। बहुत डाँट लगायी घरवालों को कि घण्टे-घण्टे-भर घण्टी बजानी पड़ती है! घर में सभी लोग थे, पर किसी ने चूँ तक की।’’

 

कितनी तनख्वाह मिलती होगी इसे?’’ एक ने ब्रोकर से पूछा था, तो उसने रस लेते हुए कहा था, ‘‘अरे, उसे पैसे की क्या कमी? कार से नीचे तो पैर नहीं रखतीबड़ी लम्बी-लम्बी दोस्तियाँ हैं उसकी…’’

 

लज्जा को लेकर सब लोग