Tuesday, 23 February 2021

Aligarh Exhibition: The Nostalgia of 140 years Old Caravan

“There comes a time in our life when we have to choose to turn the page, write another book or simply close it.” Yes: Today I am Turing the old pages of Aligarh Exhibition from book of my life. The Nostalgia of Aligarh Exhibition paints a smile on the stony face of the past. The Golden Memories of Aligarh Exhibition remains always beating in hearts of every Aligarian.

Aligarh Exhibition has a golden history. The Caravan of exhibition was started in the year 1880 by inspiration of Raja Harnarayan Singh in the name of Aligarh District Fair as an exhibition, by the then Collector Marshall. Now it it is 140 years old, which is increasing and getting young, year by year.

 

In 1886, due to the inclusion of Aligarh's training and educational knowledge in this district fair, it was renamed as the State Industrial and Agricultural Exhibition. In 1914, the then collector WS Maris gave the exhibition an organized look by constructing a court hall.

 

He constitution of its charitable trust was registered in 1998 under the then DM Srikrishna Singh Atoria. In such a situation, it became an organization to be run with the cooperation of common people

 

Aligarh Numaish is a Nostalgia part in life of Aligs fraternity .It is one of those priceless memories Aligarians carry in their hearts forever. There are some students who could boast of 100 percent attendance at the Numaish, meaning they didn’t miss even a single day. Some are not so regular, so they visit on alternate days.

 

By turning pages of my life, I boggled at period when I was a student of under high School and used to live in Anona House with parents. Anona House is situated along Railway track. Aligarh Exhibition ground from Anona house was at a walking distance on other side parallel to Railway track. Those were the enjoyable days of rikshas Horse driven Ekkas or symbol of royalty The Tongaas and cycle.

 

It was our common practice to visit exhibition with brothers and sisters by foot along railway track. That 20 mts walk on those days, has no words to express the joy and excitement we cherished. Today we ride on our four wheelers to Exhibition; Gone are those pleasure and lustful days.

 

I do recall, some time our parents allow us for Exhibition with Bua (Home Made Servant—Gulshan) as guardian. May Allah place her in Jannat-u-l Firdaus (Ameen).Gulshan Bua was a kind widow lady. Those were the days of Touring Cinema inside a huge tent and sitting arrangement was spread of tirpal on floor. Perhaps ticket costed only 25 Paisa or Chawanni.

 

Gulshan Bua with her kid girl Saira and we used to see movies, sitting on floor. The great feast for us at that time was Moong Phali and Barula with chatni (spicy socked and deep fry potato).I do remember name of one film “Zabak” of that time, which I  saw in that touring cinema.

 

Very strange to us, on some tragic scenes Bua would start weeping with tears and some times with weeping sound. Seeing this, we too start weeping. Stories of those film were very simple. One kind King ,his most beautiful Princess, Cunning Deewan and a Brave Poor man as Hero. Some films were of Fairies, a jadoogars and brave prince.

 

Some time Bua entertained us by sitting in Nautankis. The pleasure of Nautanki lies in the intense melodic exchanges between two or three performers; a chorus is used sometimes. Nautanki was one of the most popular folk operatic theater performance forms in those days. Before the advent of Bollywood (the Hindi film industry), Nautanki was the biggest source of entertainment.

 

The great grand feast days were those, when we go to Aligarh Exhibition with Father. Punjab and Central were the main hotels for traditional Dish of Halwa and Paratha. In those Days pure desi ghee was cooking medium for Halwa and Paratha.

 

One more foolish smartness is still in my memory. Once on way back to home from Exhibition, I found a goods train standing at railway crossing gate. I entered up in side an open rack of the goods train, assuming that it will again stop at next railway crossing gate near Anona House, and I will get down. To my bad luck goods train stopped at Aligarh station.

 

Once all family members and cousins with mother and big mother were roaming in Exhibition that was at its full youth and very crowds. Suddenly my mother realized that younger sister Zohra is missing.

 

We searched her at all stalls, in every lane and by lane. We announced her missing even from public announced system. At last we returned home heavy hearten. To our astonishment. We found her sleeping in her bed. She told that after departing us, she came back on foot along same railway track.

 

Life never behaves sweet as sugar. These small incidents and memories act as salt and pepper in life to make it spicy.

 

Now I am turning many pages of book named “Aligarh Exhibition". The pages are of those days when Maqbool was a student of Mechanical Engineering. Now I was independent and free to walk in Exhibition ground with friends of my group.

 

I will not waste time in telling boring history of this Exhibition but I am proud to say that this Aligarh Exhibition is 140 years old but getting more young than any younger.

 

Valentine Feeling in Aligarh Exhibition

Valentine day (14th February) has gone, but those were the days, when air of Aligarh Exhibition used to be charged with a valentine feeling. Every thing here seemed to be charged with romantic possibility. Exchanged aired notes and air glances, new romances, and rekindled old ones.

 

Mittal gate: The First entry gate to Exhibition Ground.

First of all leave our vehicle in parking ground. Walk leisurely towards Mittal gate, the main entry point to exhibition. There is no more excitement on this road. On both side of this road, lies the industrial and agricultural stall on huge ground, camps of political parties, local colleges, exhibition police post, etc.

 

There is one main road in Exhibition ground from Mittal Gate that ends at Darbar Hall. Krishanjali Auditorium is adjacent to this Durbar Hall. From this main road spreads several lanes and by lanes.

 

A.M.U. Proctor’s Camp: An AMU proctorial office too is established to have a watchful eye on students

After few Mts walk we will reach A.M.U. Proctor’s Camp Office:--Now this camp looks with no life, few bulls an proctorial staff are seen standing on gate. No need to be haraased or fear with them. The spring days of this camp has gone. I remembering the days of my studentship the repeated announcement by Proctorial staff “A.M.U students are requested to leave the exhibition ground by sharp 10:00 PM.

 

It was mandatory for A.M.U.Students to leave the exhibition ground by 10.P.M, the time of full youth of exhibition. University uniform, black sherwani, white pajama or green blazer coat, was also a mandatory. Students not in uniform, used to play a hide and seek game with University Proctorial Team.

 

Jane Kahan Gaye WO Din: Those were the magical days, The Black sherwani wearing students were the charm and symbol of a culture, tradition, nobility and respect. This was special identification of Exhibition, on those days. There are some students who could boast of 100 percent attendance at the Numaish, meaning they didn’t miss even a single day. Some are not so regular, so they visit on alternate days.

 

Senior Proctorial Monitor (S.P.M) with his team of proctorial monitors all young dashing senior students, clad in well pressed black crisp sherwani, black cap ,white Aligarh cut pajama and black shoe, started roaming in exhibition. Students in exhibition were smarter than them, seeing the team they turned other route.

 

Mukhtar Saheb was Chief Proctor.

I too was a proctorial monitor for two years, always proud of, wearing a green badge of proctorial monitor on a pitch black sherwani; with yellow monogram of university. At that time Late Mukhtar Saheb was Chief Proctor. Whom we used to call Mukhtar Ghoda due to his energetic, impassive and very tall in height personality. He used to wear maroon colored Turkish cap on sherwani.

 

The interesting part of this duty as a proctorial Monitor was ,a coupon for dinner in Jhanda or Nazeer hotel. The other most pleasant assignment was to  escort girl students of Abdullah Girls College ,from exhibition ground to their college bus, and to confirm their security.

Muzzammil Gate

Let us move ahead, now it is Muzzammil Gate, This gate was constructed in 1936 by Nawab Muzammil khan Shervani. The exhibition ground is a gift by him. Main exhibition starts from here. A human flood from all walk of life, all age, male and female is waiting from here.

 

All shops glitter by decorative light system. Sometimes it becomes difficult to walk ahead. Now comes the famous Khanna softy stall, hear we can eat tasty, Spicy Bhel Puri, Pao Bhaji, its cold but Khanna ‘s softy smoothed the throat. Wow ahead it is is a four road crossing point.

 

Fountain the famous Fauw-a-ra.

On one side of Fountain lies several big shops of Choorans (Spicy Digestive salt).It is impossible to go ahead leaving famous Chooran shop, Hing ka peda and Anar Dana of Mathura. They will put some choorans on yr open palm of different ingredient's, free to taste. No option its spiciness well bound you to buy it.This free sample still prevails.

 

Bareilly ka Surma, Rampur ki caps, Badaun ka Peda, Meerut ki Nan Khatai----are also available in Exhibition of Aligarh. Some shops sell various items with a tag price list all items with a range varying from Rs 10.00 to Rs 100.00,with  humanitarian theory that people of every pocket may purchase items of their choice.

 

Baradari: still a famous ear mark of exhibition. It was a common meeting and waiting point, for friends or relatives, lost in crowd. It was easy to make announcements from control room, requesting by name to meet them at baradari or fauw-wa-ra. A Musical

 

Food Court: Jhanda Hotel and Nazeer Hotel: ---This area has its own wonderful world, here are a dozen food stalls .The special among them are Jhanda hotel and Nazeer hotel, that is etched in memory of every Alig, all over world. The crispy Paratha layer by layer well soaked in ghee and suji ka halwa that melts in mouth, spicy soft seekh kabab and a special tea with topped layer of malai.

 

It is said that Halwa, Paratha dishes are transferred here through Cooks from Peshawar, who use to come here before partition of subcontinent. Those Peshawri cooks prepare halwa mixes with dry fruits.

 

Public Announcement System: Remembering the golden period of farmaishi (request) songs airing from loudspeakers. Commercial announcements, too were melodious of those days, a copied voice of Radio Ceylon famous Amin Sayani. Most of time it was busy for farmaishi songs or meeting lost peoples. Those melodious days are gone, only commercial ads. Now this type of announcement is seldom heard, as every one has mobile to connect each other.

 

Dinner of Abdullah Hall:--The most nostalgic awaited and cheerful event for Aligarians happened to be the when Green Bus of Abdullah Girls full of Girl Student's used to visit Exhibition ground.

 

AMU. Aligarh student’s fraternity used to try to look smarter and attractive to impress Abdullah hall students. This day appeared to be more cheerful day than Eid and Diwali. The day of Abdullah Hall dinner was always kept a top secret, not less than a mission.

 

The Provost and wardens of Abdullah Hall kept mum about the day. One evening, the girls would be asked to get ready and march towards the fleet of buses waiting to carry them to the place where all eyes are waiting for them.

 

Now this tradition is a dream, as it is impossible to manage safety of large count of Abdullah Hall’s girl students. There are many other factors to finish it. Culture, Traditions, Values and Discipline, all are changed with time and new technologies. The age told AMU tradition has been to walk out all the way to Exhibition ground.

KhazLaa (Khaja) became the identity of Aligarh exhibition

People often taste Khajala and Nankhatai at the State Industrial and Agricultural Exhibition. Both these sweets have become the hallmark of the Aligarh exhibition. While passing through GT Road, Khajala is visible outside the exhibition. Khajala is mainly made from maida, sugar and ghee. Many artisans have been doing this work from generation to generation.

 

Hullar Bazar, Nautanki and Variety Show: We may call it Disney land and Carnival of Aligarh Exhibition, a jadoo nagri. The most adventurous part of Exhibition. The grand spinning wheel, the Roller coaster. Step into this complex and get lost in the noise and commotion of people and loudspeakers. Maut ka kunwa (well of death), a huge cylindrical wooden structure. Bike riders show their deadly stunts inside this.

 

The common scene of Hullar Bazar at that time was tempting and inviting public by dancing girls /Males in girls’ makeup, out side their stalls and jockers with thick layered makeup .They used to dance on ear bursting filmi songs and joking with public.

 

Mushaira (Assembly of Poets): Every year, a grand mushaira is organized on grand stage of Krishanjali auditorium. This auditorium has capacity of 10,000 audiences. The most renowned poets from all parts of country are invited. Jigar Moradabadi , Asghar Gondawi , Fani Badauni , Kaifi Aazmi , Bekal Utsahi, Neda Fazli. These are name of few poets. It is something very exiticing for all Urdu lovers and most of the Aligs were such that they were ready to do anything for a seat in the auditorium.

 

‘Aligarh Numaish Sadbhavana Geet’.

The fair continues to inspire poets and writers. Johny Foster, music instructor in AMU wrote the ‘Aligarh Numaish Sadbhavana Geet’. The Aligarh Numaish Sadbhavana Geet has been adopted as Numaish tarana.

 

This is perhaps a unique incidence when a Tarana has been written for an exhibition. In the Aligarh Numaish Sadbhavana Geet, Johnny Foster writes: “Aligarh key logon jahan ko batá do, khuda hi mohabbat Hai, aur mohabbat khuda Hai.”

 

Aligarh Exhibition;--Hindu-Muslim communal harmony.

Numaish is considered an example of Hindu-Muslim communal harmony. For this reason, two different Neeraj Shaharyar awards of one lakh one thousand are given every year during the exhibition event to promote Hindi and Urdu literature. The Aligarh exhibition is a reflection of its nature art, culture, agriculture and industrial development.

 

Official ending of Aligarh Exhibition (2021) is 5th March Aligarh Exhibition in true sense is Nostalgia for Every Alig, for years to come.

Written, photographed and posted by Engr Maqbool Akram

 

The End

 

























































Thursday, 18 February 2021

जीवन का पाठ सिखाती महान रूसी कथकार अंतोन चेखव की एक कहानी“रोमांस”----The Lady with the Dog

 Part (1)

चर्चा थी कि सागर तटबंध पर एक नया चेहरा नजर रहा है - कोई कुत्ते वाली महिला है। द्मीत्री द्मीत्रिच गूरोव के लिए याल्टा में हर चीज़ जानी-पहचानी सी हो गयी थी, उसे यहाँ आये दो हफ्ते हो चले थे, और अब वह भी नये आने वालों में दिलचस्पी लेने लगा था।

 

वेर्ने के मण्डप में बैठे हुए उसने तटबंध पर मंझले कद की, हल्के सुनहरे बालों वाली एक महिला को घूमते देखा। वह बेरेट पहने थी, और उसके पीछे-पीछे पोमेरानियन नस्ल का छोटा-सा सफ़ेद कुत्ता दौड़ रहा था।

 

और फिर वह दिन में कई बार पार्क में और बगीचे में उसे दिखायी दी। वह अकेली ही घूमती होती - वही बेरेट पहने और उसी सफ़ेद कुत्ते के साथ। कोई नहीं जानता था कि वह कौन है, सो सब उसे बस कुत्ते वाली महिला ही कहते थे।

 

उसे देखकर गूरोव सोचता, “अगर इसका पति या कोई परिचित इसके साथ नहीं है, तो इससे जान-पहचान कर लेना बुरा नहीं होगा।

 

वह अभी चालीस का भी नहीं हुआ था, पर उसके एक बारह साल की बेटी थी और दो बेटे हाई स्कूल में पढ़ रहे थे। उसकी शादी जल्दी ही कर दी गयी थी, जब वह विश्वविद्यालय में द्वितीय वर्ष का छात्र था, और अब उसकी पत्नी उससे ड्योढ़ी उम्र की लगती थी। वह रोबीली स्त्री थी - ऊँचा-कद, सीधी देह, भौंहें काली-सी; और वह स्वयं को चिंतनशील व्यक्ति कहती थी।

 

वह बहुत पढ़ती थी, लिपि में रूढ़ियों का पालन नहीं करती थी, पर पति को द्मीत्री नहीं, बल्कि प्राचीन उच्चारण के नियमों के अनुसार दिमीत्री कहती थी। गूरोव मन ही मन उसे अदूरदर्शी, संकीर्णमना, अनाकर्षक मानता था, उससे डरता था और इसलिए घर से बाहर रहना ही उसे ज़्यादा अच्छा लगता था।

 

बहुत पहले से ही वह उससे बेवफाई करने लगा था और अक्सर करता था। शायद यही कारण था कि स्त्रियों के बारे में उसकी राय प्रायः सदा ही ख़राब होती थी, और जब उसके सामने उनकी चर्चा चलती तो वह उन्हेंघटिया नस्ल!” ही कहता था।

 

उसे लगता था कि उसे इतने कटु अनुभव हो चुके हैं कि वह अब स्त्रियों को जो चाहे कह सकता है। लेकिन इसघटिया नस्लके बिना दो दिन भी जीना उसके लिए मुश्किल था। पुरुषों का साथ उसे नीरस लगता था, वह अजीब-सा महसूस करता था, उनसे वह ज़्यादा बातें नहीं करता था और उसका व्यवहार बड़ा औपचारिक-सा होता था। पर स्त्रियों के बीच वह किसी तरह का संकोच नहीं अनुभव करता था, सदा बातचीत का विषय ढूँढ़ लेता था और उसका व्यवहार सहज-स्वाभाविक होता था; उनके साथ चुप रहना भी उसे आसान लगता था। 

उसके रूप-रंग में, उसके स्वभाव में, सारे चरित्र में ही कोई अनबूझ सम्मोहन था, जिससे स्त्रियाँ सहज ही उसकी ओर आकर्षित हो जाती थीं। उसे इस बात का आभास था, और स्वयं उसे भी कोई शक्ति उनकी ओर खींचे लिये जाती थी।

 

बारम्बार के सचमुच ही कटु अनुभवों से वह कब का यह समझ चुका था कि किसी भी स्त्री के साथ घनिष्ठता, जो आरम्भ में जीवन में एक सुखद विविधता लाती है और एक प्यारा-सा, हल्का-फुल्का रोमांस ही लगती है, भद्र लोगों के लिए, विशेषतः मास्कोवासियों के लिए, जो स्वभाव से ही मंथर और अनिश्चयी होते हैं, बड़ी मुश्किल समस्या बन जाती है, और अन्ततः स्थिति असह्य हो जाती है।

 

लेकिन हर बार किसी रोचक स्त्री से भेंट होने पर पुराने अनुभव की यह कटुता जाने कहाँ खो जाती थी, और जीवन का आनन्द लेने को जी करता था, सब कुछ इतना सरल और मजेदार लगता था।

 

और एक दिन जब वह पार्क में खाना खा रहा था, बेरेट पहने वह महिला धीरे-धीरे आकर बगल वाली मेज के पास बैठ गयी। उसके चेहरे के हाव-भाव, उसकी चाल, उसकी पोशाक और केश विन्यास से गूरोव समझ गया कि वह सम्भ्रान्त कुल की है, विवाहिता है, याल्टा में पहली बार आयी है, कि वह अकेली है और यहाँ उसका मन नहीं लग रहा है...याल्टा जैसी जगहों में बिगड़े चाल-चलन के जो किस्से सुनने में आते हैं, उनमें बहुत कुछ झूठ होता है।

 

गूरोव उन्हें ओछी बातें समझता था और जानता था कि ऐसे किस्से ज़्यादातर वही लोग गढ़ते हैं, जो ख़ुशी से पाप करते, बशर्ते उन्हें ऐसा करना आता। पर अब, जब वह महिला उससे तीन क़दम दूर बगल की मेज के पास बैठी, तो उसे सहज ही पायी जा सकने वाली विजय और पहाड़ों की सैरों के ये किस्से याद हो आये और उसके मन में एक प्रलोभन जागा, जल्दी से एक क्षणिक सम्बन्ध बना लेने का, एक अनजान स्त्री के साथ, जिसका वह नाम तक नहीं जानता, रोमांस का विचार उसके मनोमस्तिष्क पर हावी हो गया।

 

उसने कुत्ते को पुचकार कर बुलाया और जब वह उसके पास गया, तो उँगली हिलायी। कुत्ता गुर्राने लगा। गूरोव ने फिर से उँगली हिलायी।महिला ने उसकी ओर देखा और तुरन्त ही आँखें नीची कर लीं।

काटता नहीं है,” यह कहते हुए उसका चेहरा गुलाबी हो उठा।

 

इसे हड्डी दे सकता हूँ?” और जब महिला नेहाँमें सिर हिलाया, तो गूरोव ने नम्रता से पूछा, “आपको याल्टा आये काफ़ी दिन हो गये?”

पाँच दिन।

मैं तो दूसरा हफ्ता काट रहा हूँ

कुछ देर तक वे चुप रहे।

समय तो जल्दी ही बीत जाता है, पर यह जगह बड़ी उकताऊ है!” महिला ने गूरोव की ओर देखे बिना ही कहा।

 

यह कहना भी एक फैशन की ही बात है कि यह जगह बड़ी उकताऊ है। किसी कस्बे-वस्बे में सारी उम्र रहते हुए तो लोग ऊबते नहीं, पर यहाँ आते ही शिकायत करने लगते हैं, ‘हाय, कितनी ऊब है!, हाय, कितनी धूल है!’ कोई सुने तो सोचे जनाब सीधे ग्रेनादा से पधारे हैं!”

 

वह हँस दी।

 

फिर दोनों अपरिचितों की ही भाँति चुपचाप खाना खाते रहे, पर खाने के बाद वे साथ-साथ चल पड़े, और उनके बीच हल्की-फुल्की, हास्य-विनोद भरी बातचीत होने लगी। यह दो आजाद, सन्तुष्ट लोगों की बातचीत थी, जिनके लिए सब बराबर होता है - कहीं भी जाया जाये, कुछ भी किया जाये। वे घूम रहे थे और ये बातें कर रहे थे कि समुद्र पर कैसा विचित्र प्रकाश पड़ रहा है;

जल का रंग कोमल नीला-फिरोज़ी था और चन्द्र किरणें उस पर सुनहरी चादर बिछा रही थीं। ये बातें कर रहे थे कि दिन भर की गर्मी के बाद बड़ी उमस हो रही है। गूरोव ने बताया कि वह मास्को का रहने वाला है, कि उसने भाषा और साहित्य की शिक्षा पायी थी, पर काम बैंक में करता है;

 

कभी उसने ओपेरा में गाने की तैयारी भी की थी, पर फिर यह विचार छोड़ दिया, कि मास्को में उसके दो मकान हैं...और महिला ने गूरोव को बताया कि वह पीटर्सबर्ग में बड़ी हुई, पर विवाह उसका - नगर में हुआ, जहाँ वह दो साल से रह रही है, कि वह और महीना भर याल्टा में रहेगी और फिर शायद उसका पति उसे लेने आयेगा।

 

वह भी कुछ दिन आराम करना चाहता है। वह किसी भी तरह यह नहीं बता पा रही थी कि उसका पति कहाँ काम करता है - प्रदेश के सरकारी कार्यालय में या जिला कार्यालय में, और उसे स्वयं इस बात पर हँसी रही थी। गूरोव ने यह भी जाना कि उसका नाम आन्ना सेर्गेयेव्ना है।

 

होटल के अपने कमरे में लौटकर वह उसके बारे में सोचता रहा, कि कल शायद फिर उसकी भेंट होगी; ऐसा होना ही चाहिए। जब वह सोने के लिए लेटा, तो उसे ख़याल आया कि कुछ साल पहले तक वह महिला विद्यालय में ही पढ़ती थी, जैसे अब उसकी बेटी पढ़ रही है; उसे याद आया कि आन्ना सेर्गेयेव्ना की हँसी में, अपरिचित व्यक्ति के साथ बातें करने के उसके अन्दाज में अभी कितना अल्हड़ता भरा संकोच है।

 

निश्चय ही वह जीवन में पहली बार ऐसे वातावरण में अकेली थी, जहाँ दूसरों की नजरें उस पर थीं, और मन में एक ही विचार छिपाकर पुरुष उससे बातें करते थे, और वह इस विचार को भांपे बिना नहीं रह सकती थी। गूरोव को उसकी सुकोमल गर्दन, उसकी हल्की सुरमई आँखें याद आईं।

 

उसे देख कर मन में एक विचित्र दया-सी उठती है,” यह सोचते हुए वह सो गया।

 

Part (2)

उनकी जान-पहचान हुए एक हफ्ता बीत गया। छुट्टी का दिन था। कमरों में उमस हो रही थी, बाहर धूल के सतून उठ रहे थे, टोपियाँ उड़-उड़ जाती थीं। दिन भर प्यास सताती रही। गूरोव बार-बार मण्डप में जाता और कभी आन्ना सेर्गेयेव्ना को सोडा वाटर ले देता, कभी आइसक्रीम खाने को कहता। समझ में नहीं आता था कि कहाँ जाया जाये।

 

शाम को जब हवा ज़रा थम गयी, तो वे घाट पर गये स्टीमर देखने। घाट पर घूमने वालों की भीड़ थी; किसी के स्वागत के लिए लोग जमा थे, उनके हाथों में गुलदस्ते थे। और यहाँ याल्टा की सजी-धजी भीड़ की दो विशिष्टतायें साफ़ देखी जा सकती थीं ।अधेड़ महिलायें युवतियों जैसे वस्त्र पहने थीं और बहुत से जनरल थे।

 

समुद्र में ऊँची लहरें उठती रही थीं, इसलिए स्टीमर देर से आया, जब सूरज डूब चुका था, और घाट पर लगने से पहले देर तक इधर-उधर मुड़ता रहा। आन्ना सेर्गेयेव्ना आँखों के आगे लार्नेट पकड़े स्टीमर और सवारियों को देखती रही, मानो किसी परिचित को ढूँढ़ रही हो, और जब वह गूरोव से कुछ कहती, तो उसकी आँखें चमकती लगतीं। वह बहुत बोल रही थी, और उसके प्रश्न असंबद्ध थे, वह कुछ पूछती और उसी क्षण यह भूल भी जाती कि क्या पूछा है; फिर भीड़ में उससे लार्नेट खो गया।

 

सजी-धजी भीड़ छंट रही थी और अब लोगों के चेहरे दिखायी नहीं दे रहे थे, हवा बिल्कुल थम गयी थी। गूरोव और आन्ना सेर्गेयेव्ना यह प्रतीक्षा करते से खड़े थे कि स्टीमर से और तो कोई नहीं उतर रहा। आन्ना सेर्गेयेव्ना चुप थी, गूरोव की ओर नहीं देख रही थी, बस फूल सूंघे जा रही थी। गूरोव बोला -

शाम को मौसम अच्छा हो गया है। अब कहाँ चलें? गाड़ी ले कर कहीं चला जाये?”

आन्ना सेर्गेयेव्ना ने कोई जवाब नहीं दिया।

 

तब गूरोव ने उसके चेहरे पर आँखें गड़ा दीं, सहसा उसे बांहों में भर लिया और उसके होंठों पर चुम्बन लिया, फूलों की सुगंध और नमी उसके नथुनों में भर गयी और उसने सहमी नजर इधर-उधर दौड़ायी - किसी ने देखा तो नहीं?

चलिये, आपके यहाँ चलें...” वह हौले से बोला।

और दोनों जल्दी-जल्दी चल दिये।

 

आन्ना सेर्गेयेव्ना के कमरे में उमस थी, इत्र की महक रही थी, जो उसने जापानी दुकान में ख़रीदा था। उसकी ओर देखते हुए गूरोव अब सोच रहा था, “जीवन में कैसी-कैसी मुलाकातें होती हैं!” उसके जीवन में मृदु स्वभाव की बेफिक्र स्त्रियाँ आयी थीं, जो प्रेम से हर्षविभोर होतीं, और क्षणिक सुख पा कर भी उसका आभार मानतीं। 

और उसकी पत्नी जैसी स्त्रियाँ भी, जिनके प्रेम में कोई सच्चाई थी, वे बड़बोली थीं, बहुत बनती थीं, उनका प्रेम हिस्टीरिया की तरह उठता था, और प्रेम में उनके हाव-भाव ऐसे होते थे, मानो यह प्रेम नहीं, मन की प्यास नहीं बल्कि कोई अत्यधिक महत्त्वपूर्ण चीज़ है; दो-तीन अत्यंत रूपवती स्त्रियाँ भी थीं, जिनके मन में भावनाओं का तूफान नहीं उठता था, बस कभी-कभार चेहरे पर हिंस्र भाव झलक उठता, एक ऐसी हठपूर्ण इच्छा कि जीवन जो कुछ दे सकता है उससे अधिक खसोट लें।

 

और ये स्त्रियाँ जवानी की दहलीज लांघ चुकी थीं, नखरे भरी थीं, बुद्धिमान नहीं थीं, सोचती-विचारती नहीं थीं, पर अपना हक जमाती थीं, और गूरोव जब उनके प्रति ठण्डा पड़ जाता, तो उनका रूप उसके मन में घृणा जगाता और उनकी शमीज की लेस उसे मछली के शल्क जैसी लगती।

 

लेकिन यहाँ वही संकोच, अनुभवहीन यौवन की वही अनघड़ता थी और एक अजीब-सी अनुभूति थी। ऐसी सकपकाहट सी महसूस हो रही थी, मानो किसी ने सहसा दरवाज़े पर दस्तक दी हो। जो कुछ घटा था, उसपर आन्ना सेर्गेयेव्ना की, इसकुत्ते वाली महिलाकी प्रतिक्रिया विचित्र थी।

 

अत्यंत गम्भीर, मानो यह उसका पतन ही हो; ऐसा लग रहा था और यह अजीब, बेमौके की बात थी। उसका चेहरा मुरझा गया, गालों पर बाल लटक रहे थे, दुख में डूबी वह विचारमग्न बैठी थी - हूबहू किसी प्राचीन चित्र में बनी पतिता-सी।

 

यह अच्छा नहीं हुआ,” वह बोली।अब आप ही मुझे बुरी समझेंगे।

कमरे में तरबूज रखा हुआ था। गूरोव ने एक फांक काटी और धीरे-धीरे खाने लगा। कम से कम आधा घण्टा चुप्पी छाई रही।

 

आन्ना सेर्गेयेव्ना के रोम-रोम से पाकदामनी का अहसास होता था, वह भोली, भद्र स्त्री थी, उसका जीवन अनुभव अभी थोड़ा ही था; वह बड़ी मर्मस्पर्शी लग रही थी। मेज पर जल रही एकमात्र मोमबत्ती की मद्धम रोशनी उसके चेहरे पर पड़ रही थी, स्पष्ट था कि उसके हृदय में घोर उथल-पुथल हो रही है।

 

मैं तुम्हें बुरी क्यों समझने लगा?” गूरोव ने पूछा।तुम ख़ुद नहीं जानती हो क्या कह रही हो।

 

हे प्रभु, मुझे क्षमा करो!” आन्ना सेर्गेयेव्ना ने कहा और उसकी आँखें आँसुओं से भर आयीं।बड़ी भयानक बात है यह!”

तुम तो मानो सफाई दे रही हो।

 

मैं क्या सफाई दे सकती हूँ? मैं नीच, पतिता हूँ, मुझे अपने आप से नफरत हो रही है और सफाई की तो मैं सोच ही नहीं सकती। मैंने पति को नहीं, अपने आप को धोखा दिया है। मेरा पति, हो सकता है, ईमानदार, अच्छा आदमी हो, पर वह अरदली है! मुझे नहीं पता वह क्या नौकरी करता है, कैसा काम करता है, पर मैं जानती हूँ कि वह अरदली है।

 

जब उससे मेरी शादी हुई थी, तो मैं बीस बरस की थी, मेरे मन में अथाह कौतूहल था, मैं अधिक अच्छे, सुन्दर जीवन की कल्पना करती थी। मैं अपने आप से कहती थी कि कोई दूसरा जीवन भी तो है! मैं जीना चाहती थी, जीना, जीना...मैं कौतूहल के मारे मरी जा रही थी...आप यह सब नहीं समझते, पर ईश्वर क़सम, अपने आप पर मेरा बस नहीं रहा था, मुझे जाने क्या होता जा रहा था, मुझे कोई रोक नहीं सकता था, मैंने पति से कहा कि मैं बीमार हूँ, और यहाँ चली आयी...यहाँ भी मैं बावली-सी, नशे की-सी हालत में घूमती रही...और अब मैं एक तुच्छ कुलटा औरत हूँ, जिससे कोई भी नफरत कर सकता है।

 

गूरोव यह सुनते-सुनते उकता गया, उसे उसके भोलेपन पर, इस प्रायश्चित पर, जो इतना अप्रत्याशित और असामायिक था, खीझ हो रही थी। यदि आन्ना सेर्गेयेव्ना की आँखों में आसू होते तो यह सोचा जा सकता था कि वह मजाक कर रही है या फिर नाटक। गूरोव हौले से बोला -

मेरी समझ में नहीं आता तुम चाहती क्या हो?”

उसने गूरोव की छाती में अपना मुँह छिपा लिया और उससे सट गयी।

 

मुझ पर विश्वास कीजिए, भगवान के वास्ते,” वह कह रही थी।मुझे सच्चा, पाक जीवन ही अच्छा लगता है, पाप से मुझे घिन है, मैं ख़ुद नहीं जानती मैं क्या कर रही हूँ। आम लोग कहते हैं - बुद्धि मारी गयी। अब मैं भी कह सकती हूँ: शैतान ने मेरी बुद्धि भ्रष्ट कर दी।

 

बस, बस...” वह बुदबुदा रहा था।वह उसकी निश्चल, भयभीत आँखों में आँखें डाल कर देख रहा था, उसे चूम रहा था, स्नेह भरे स्वर में हौले-हौले बोल रहा था, और वह धीरे-धीरे शान्त हो गयी,